बंगाल में आकर्षक वामपंथी प्रचार

Attractive leftist propaganda in Bengal बंगाल विधानसभा चुनाव (Bengal Assembly Elections) में वामपंथी प्रचार के पोस्टरों की यह एक अनोखी सिरीज़ है जिसे लाखों की संख्या में गाँव-शहर के कोने-कोने में लगा हुआ देखा जा सकता है। बवासीर के इलाज या गुप्त रोग के डॉक्टर (Treatment of hemorrhoids or Doctor of secret disease) या वशीकरण …
 | 
बंगाल में आकर्षक वामपंथी प्रचार

Attractive leftist propaganda in Bengal

बंगाल विधानसभा चुनाव (Bengal Assembly Elections) में वामपंथी प्रचार के पोस्टरों की यह एक अनोखी सिरीज़ है जिसे लाखों की संख्या में गाँव-शहर के कोने-कोने में लगा हुआ देखा जा सकता है। बवासीर के इलाज या गुप्त रोग के डॉक्टर (Treatment of hemorrhoids or Doctor of secret disease) या वशीकरण मंत्र की पीली किताबों के विज्ञापनों तर्ज़ पर बनाए गए ये पोस्टर आगे भारत के चुनावी प्रचार के स्वरूप में भारी परिवर्तन के सूचक है।

वामपंथी नौजवान कार्यकर्ताओं को कई गली-नुक्कड़ों पर फ़्लैश डांस के ज़रिए लोगों का ध्यान खींचते हुए देखा जाता है, तो बसों-ट्रेनों में टिकट के आकार के लिफ्लेट बाँटते हुए भी उन्हें पाया जाता हैं। कई पैरोडी गीतों के साथ वे जगह-जगह हल्लागाड़ी लेकर हाजिर हो जाते हैं, तो चुनावी खर्च उगाहने के लिए पब्लिक फ़ंडिंग के आधुनिक उपायों का प्रयोग कर रहे हैं। भाजपा-तृणमूल के करोड़ों रुपये की टक्कर में वाम उम्मीदवारों की यह पहल आज चर्चा का विषय है।

वाम के प्रचार में यह नवीनता उसकी ब्रिगेड सभा के प्रचार के वक्त ही सामने आ गई थी जब बेहद लोकप्रिय एक ‘टुंपा गान’ की धुन पर ब्रिगेड की सभा में शामिल होने का आह्वान किया गया था। इस पर हमने अलग से एक टिप्पणी भी की थी। इसी के साथ संगति रखते हुए वामपंथी उम्मीदवारों में नौजवानों की बड़ी संख्या बहुत तात्पर्यपूर्ण है और तारुण्य के आकर्षण के साथ उनका कुल प्रचार सृजनात्मक और बेहद प्रभावशाली भी है।

-अरुण माहेश्वरी

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription