दिल्ली की सीमाओं से किसानों का भाजपा पर चुनावी सर्जिकल स्ट्राईक, देखें वीडियो

Electoral surgical strike on BJP from farmers from Delhi borders नई दिल्ली, 13 मार्च 2021। आंदोलनरत किसान (Agitated farmer) दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हैं, लेकिन सरकार चुनावी राज्यों में अपना दमखम दिखाने में जुटी है। खासकर पश्चिम बंगाल में भाजपा इन दिनों सक्रिय है। ऐसे में अब किसान दिल्ली, हरियाणा और पंजाब के बाद …
 | 
दिल्ली की सीमाओं से किसानों का भाजपा पर चुनावी सर्जिकल स्ट्राईक, देखें वीडियो

Electoral surgical strike on BJP from farmers from Delhi borders

नई दिल्ली, 13 मार्च 2021। आंदोलनरत किसान (Agitated farmer) दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हैं, लेकिन सरकार चुनावी राज्यों में अपना दमखम दिखाने में जुटी है। खासकर पश्चिम बंगाल में भाजपा इन दिनों सक्रिय है। ऐसे में अब किसान दिल्ली, हरियाणा और पंजाब के बाद पश्चिम बंगाल की ओर कूच करने की तैयारी में हैं। जिसके चलते आज भारतीय किसान यूनियन नेता राकेश टिकैत नंदीग्राम में रैली करेंगे।

किसान आंदोलन समाचार | Farmer movement news | बंगाल विधानसभा चुनाव

जनता सरकार से उम्मीद लगाए रहती है कि सरकार उन्हें राहत देगी। इसी तरह किसान भी उम्मीद लगाए हुए था कि सरकार उनके हित में काम करेगी। लेकिन आलम ये है कि किसान दिल्ली की सीमाओं पर बैठा है, नए कृषि कानूनों की मुखालिफत कर रहा है, लेकिन सरकार किसानों की सुनने को तैयार ही नहीं है।

सरकार से बात रही बेनतीजा

केंद्र सरकार के साथ 11 दौर की बातचीत में किसानों को कोई सफलता हाथ नहीं लगी। लेकिन फिर भी उनका संकल्प दृढ़ है और उम्मीद है कि जीत उन्हें ही मिलेगी। ऐसे में किसानों ने अब मोदी सरकार के खिलाफ ही मोर्चा खोल लिया है, जिससे भाजपा की मुश्किल बढ़ना तय है।

पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ रहे हैं किसान | Farmers are moving towards West Bengal

किसान अब दिल्ली, हरियाणा और पंजाब के बाद पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ रहे हैं, जिसके चलते कई किसान नेता बंगाल पहुंच चुके हैं। और वहां के किसानों को भाजपा को वोट ना करने के लिए समझा रहे हैं। हालांकि, किसान नेता राकेश टिकैत ने बंगाल जाने से पहले ये स्पष्ट किया था कि वो किसी भी दल के समर्थन में वोट नहीं मांगेंगे। उनका मकसद है कि भारतीय जनता पार्टी का बहिष्कार कर मोदी सरकार का अभिमान तोड़ा जाए। और इसी के चलते आज किसान नेता राकेश टिकैत नंदीग्राम और कोलकाता में रैली करेंगे।

इसके अलावा कोलकाता में होने वाली महापंचायत रैली में भी राकेश टिकैत हिस्सा लेंगे। इसके बाद शाम चार बजे नंदीग्राम से किसान सरकार की तरफ से लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ भाषण देंगे।

26 मार्च को किसानों का भारत बंद

इसी के साथ ही संयुक्त किसान मोर्चा ने 12 से 14 मार्च के बीच बंगाल की राजधानी कोलकाता, नंदीग्राम, सिंगूर, आसनसोल में लगातार रैलियां, रोड शो, जनसभाएं और किसान महापंचायतें करने की तैयारी की है। वहीं, 26 मार्च को अब किसानों ने भारत बंद बुलाया है।

आपको बता दें, कि किसान लगातार मांग कर रहा है सरकार किसानों के लिए लाए नए कृषि कानून को रद्द कर दे। सरकार उसमें संशोधन को तो तैयार है, लेकिन कानून रद्द करने के लिए तैयार नहीं है। ऐसे में अब किसानों ने ठान लिया है कि सरकार से अपनी मांग पूरी करवा के ही रहेंगे।

अब किसानों के आगे आखिर कब तक सरकार ऐसे ही कायम रहेगी, ये तो समय आने पर ही पता चलेगा।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription