सपा-बसपा ने क़ुरैशी समाज से वोट और नोट लिया, दिया कुछ नहीं - शाहनवाज़ आलम

अल्पसंख्यक कांग्रेस ने आज हर ज़िले से राज्यपाल को क़ुरैशी समाज की समस्याओं पर 5 सूत्रीय ज्ञापन भेजा.

 | 
Minority Congress sent memorandum from every district to Governor on the demands of Qureshi society
अल्पसंख्यक कांग्रेस ने हर ज़िले से भेजा क़ुरैशी समाज की माँगों पर राज्यपाल को ज्ञापन

Minority Congress sent memorandum from every district to Governor on the demands of Qureshi society

लखनऊ, 24 जून 2021. अल्पसंख्यक कांग्रेस ने आज हर ज़िले से राज्यपाल को क़ुरैशी समाज की समस्याओं पर 5 सूत्रीय ज्ञापन भेजा.

अल्पसंख्यक कांग्रेस के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने कहा कि पिछले रविवार को क़ुरैशी समाज की समस्याओं को स्पीक अप माइनोरिटी अभियान में फेसबुक लाइव के माध्यम से उठाने के बाद आज हर ज़िले से डीएम व अन्य सक्षम अधिकारियों के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन भेजा गया.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस प्रियंका गांधी जी के निर्देश पर क़ुरैशी समाज की रोजी-रोटी से जुड़े मुद्दों पर संघर्ष करेगी. उन्होंने सपा और बसपा पर क़ुरैशी समाज से वोट और नोट ले कर उनका शोषण करने का आरोप भी लगाया

अल्पसंख्यक कांग्रेस ने निम्न मांगो पर 5 सूत्रीय ज्ञापन भेजा है:-

1. उत्तर प्रदेश में बन्द पड़े स्लाटर हाउस को आधुनिक तकनीक के साथ शीघ्र चालू किया जाए तथा जिन जिलों में स्लाटर हाउस नहीँ है उनमें शीघ्र आधुनिक स्लेटर हाउस का निर्माण कराया जाये.

2. उत्तर प्रदेश में सरकार ने मीट बेचने वाले छोटे दुकानदारों के लाइसेंस बनाने व नवीनीकरण की प्रक्रिया को जटिल बना दिया है सरकार द्वारा लाइसेंस बनाने व नवीकरण की प्रक्रिया को आसान बनाया जाए.

3. सपा सरकार में बंद हुए कानपुर से लेकर हापुड़ तक प्रदेश भर में बंद पड़े सभी चमड़े के कारखानों को शीघ्र चालू किया जाये.

4. लाइसेंस मानक से मीट बेचने वालों व निजी स्लाटर हाउस से GST शुदा बिल पर मीट खरीदकर लाने वालों को पुलिस बे वजह परेशान करती है उनसे अवैध रूप से धन की उगाई करती है उनका उत्पीड़न करती है, उत्तर प्रदेश सरकार को इसे संज्ञान में लेते हुए कुरेशी समाज की मदद के लिए अति शीघ्र एक हेल्पलाइन नंबर जारी करना चाहिए.

5. क़ुरैशी समाज पर लगी रासुका व झूठे मुकद्दमों की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए तथा निर्दोष पाए जाने वालों क़ुरैशी समाज के लोगों पर लगे मुकदमे बापिस लिया जाने चाहिए.

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription