शायरी ख़ून-ए-दिल से होती है/ मुफ़्त में यह हुनर नहीं आता |’फ़हमी’ बदायूँनी

आज है ‘फ़हमी’ बदायूँनी का जन्म दिन | Birthday of ‘Fahmi’ Badauni बदायूँ समाचार | Budaun news in Hindi شاعری خون دل سے ہوتی ہے مفت میں یہ ہنر نہیں آتا बदायूँ, 05 जनवरी 2021. बज़्म-ए-अदब बदायूं ने शायर फ़हमी‘ बदायूँनी को यौम-ए-पैदाइश की मुबारकबाद पेश करते हुए उनकी सेहतयाबी की दुआ की है। कौन …
 | 
शायरी ख़ून-ए-दिल से होती है/ मुफ़्त में यह हुनर नहीं आता |’फ़हमी’ बदायूँनी

आज है ‘फ़हमी’ बदायूँनी का जन्म दिन | Birthday of ‘Fahmi’ Badauni

बदायूँ समाचार | Budaun news in Hindi

شاعری خون دل سے ہوتی ہے

 مفت میں یہ ہنر نہیں آتا

बदायूँ, 05 जनवरी 2021. बज़्म-ए-अदब बदायूं ने शायर फ़हमीबदायूँनी को यौम-ए-पैदाइश की मुबारकबाद पेश करते हुए उनकी सेहतयाबी की दुआ की है।

कौन हैंफ़हमी’ बदायूँनी

फ़हमी’ बदायूँनी साहब किसी तआर्रुफ़ के मोहताज नहीं है। उनका अस्ल नाम ‘ज़मा शेर खान’ उर्फ़ ‘पुत्तन खान’ है। उनकी पैदाइश 4 जनवरी 1952 को क़स्बा बिसौली,ज़िला बदायूं (उ.प्र.) में हुई। उर्दू अदब में वो “फ़हमी बदायूंनी” के नाम से मशहूर हैं.

‘फ़हमी’ साहब की शायरी में जदीदियत संजीदा फ़िक्र-ओ-ख़्याल और नए नए ज़ाविये देखने को मिलते हैं। नयी तर्ज़ में गुफ़्तगू करते हुए उनके अशआर सीधे दिल में ऐसे उतरते हैं कि पढ़ने वाला तारीफ़ किये बग़ैर नहीं रह सकता। उनमें दर्द भी है, तड़प भी है और तलब भी है। उन्होंने जो भी ख़्याल शायरी के हवाले से पेश किए हैं वो सच्चे नज़र आते हैं। वो बज़्म-ए-अदब बदायूं के मौजूदा वाइस प्रेसिडेंट भी हैं।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription