हैदराबाद एनकाउंटर : वकीलों के एसोसिएशन ने मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए सरकार का विरोध किया

हैदराबाद एनकाउंटर : वकीलों के एसोसिएशन ने मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए सरकार का विरोध किया Lawyers’ association raps govt for Human Rights violations लखनऊ, 08 दिसंबर 2019 : नवगठित डेमोक्रेटिक लायर्स एसोसिएशन – Democratic Lawyers Association (डीएलए) ने हैदराबाद एनकाउंटर, उन्नाव बलात्कार पीड़िता (Hyderabad encounter, Unnao rape victim,) सहित प्रदेश में महिलाओं के साथ …
 | 

हैदराबाद एनकाउंटर : वकीलों के एसोसिएशन ने मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए सरकार का विरोध किया

Lawyers’ association raps govt for Human Rights violations

लखनऊ, 08 दिसंबर 2019 : नवगठित डेमोक्रेटिक लायर्स एसोसिएशन – Democratic Lawyers Association (डीएलए) ने हैदराबाद एनकाउंटर, उन्नाव बलात्कार पीड़िता (Hyderabad encounter, Unnao rape victim,) सहित प्रदेश में महिलाओं के साथ बढ़ती हिंसा की घटनाओं व मानवाधिकार उल्लंघन के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराया है।

अधिवक्ता संगठन की रविवार को लखनऊ में हुई बैठक में सत्ता के संरक्षण में संविधान व लोकतंत्र के हनन की घटनाओं को बढ़ावा देने पर घोर चिंता व्यक्त की गई।

बैठक में अधिवक्ताओं ने कहा कि सरकारें जनता को सस्ता, सुलभ व त्वरित न्याय दिलाने में असफल हैं। अपनी नाकामियों पर पर्दा डालने के लिए भीड़ हत्या व मुठभेड़ हत्या को जायज ठहराने के लिए माहौल बना रही हैं। एक सभ्य समाज में दंड देने का काम न्यायपालिका को है, न कि पुलिस अथवा भीड़ को। अधिवक्ताओं ने कहा कि अगर इस तरह की घटनाओं पर रोक नहीं लगी तो सरकारें लोकतांत्रिक अधिकारों के दमन के लिए निरंकुश हो जायेंगी।

बैठक की अध्यक्षता इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ता चंद्रपाल तथा संचालन डीएलए के प्रदेश संयोजक एडवोकेट नसीर शाह ने की।

बैठक में हाइकोर्ट के एडवोकेट माता प्रसाद पाल, सोनभद्र बार से प्रभुसिंह, झांसी बार से अनीस अहमद, फैजाबाद से उमाकांत विश्वकर्मा, राजेश वर्मा आदि अधिवक्ता थे।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription