यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ राज्य में कानून-व्यवस्था बनाए रखने में नाकाम : बीएसपी

UP CM Yogi Adityanath failed to maintain law and order in state : BSP नई दिल्ली, 22 दिसंबर 2019. बहुजन समाज पार्टी ने नागरिकता संशोधन अधिनियम विरोधी आंदोलन (Anti-Citizenship Amendment Act) के दौरान पुलिस हिंसा पर सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि वह राज्य में कानून-व्यवस्था बनाए रखने …
 | 
यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ राज्य में कानून-व्यवस्था बनाए रखने में नाकाम : बीएसपी

UP CM Yogi Adityanath failed to maintain law and order in state : BSP

नई दिल्ली, 22 दिसंबर 2019. बहुजन समाज पार्टी ने नागरिकता संशोधन अधिनियम विरोधी आंदोलन (Anti-Citizenship Amendment Act) के दौरान पुलिस हिंसा पर सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि वह राज्य में कानून-व्यवस्था बनाए रखने में नाकाम रहे हैं.

बसपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधीन्द्र भदौरिया (Sudhindra Bhadoria – Spokesperson BSP) ने कहा कि

“योगीजी की भाजपा सरकार ने यू.पी. की जनता को जंगलराज और गुंडाराज में ढकेल दिया।निराश जनता उनसे छुटकारा चाहती है।“

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ उत्तर प्रदेश में चल रहा उग्र विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है। शनिवार को कानपुर और रामपुर में प्रदर्शन के दौरान हिंसा हुई। रामपुर में एक की मौत हो गई। अन्य जिलों में छिटपुट घटनाएं हुई हैं। पुलिस के मुताबिक, विरोध प्रदर्शनों के दौरान 11 दिनों के भीतर 15 लोगों की मौत हो चुकी है और 705 गिरफ्तारियां हुई हैं। 4500 लोगों को हिरासत में लिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आईजी (कानून व्यवस्था) प्रवीण कुमार ने  कहा,

“पूरे प्रदेश में 10 दिसंबर से लेकर अब तक 15 लोगों की मौत हो चुकी है। हिंसक प्रदर्शनों में 705 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पूरे प्रदेश में धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस हिंसाग्रस्त इलाकों में गश्त कर लोगों से शांति की अपील कर रही है।”

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription