प्रोन्नति में आरक्षण का बिल फाड़ने वाली सपा आंबेडकर के नाम पर ढोंग और स्वांग कर रही : मनोज यादव

उप्र की जनता द्वारा लगातार ख़ारिज किये जाने से सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव विचलित होकर अवैज्ञानिक और अतार्किक निर्णय ले रहे हैं : मनोज यादव पूरी दुनिया बाबा साहेब की जयंती समता दिवस के रूप में मना रही तब दलित दिवाली मना कर बाबा साहेब की विचारधारा को कुन्द और सीमित करना चाहते हैं समाजवादी …
 | 
प्रोन्नति में आरक्षण का बिल फाड़ने वाली सपा आंबेडकर के नाम पर ढोंग और स्वांग कर रही : मनोज यादव

उप्र की जनता द्वारा लगातार ख़ारिज किये जाने से सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव विचलित होकर अवैज्ञानिक और अतार्किक निर्णय ले रहे हैं : मनोज यादव

पूरी दुनिया बाबा साहेब की जयंती समता दिवस के रूप में मना रही तब दलित दिवाली मना कर बाबा साहेब की विचारधारा को कुन्द और सीमित करना चाहते हैं

समाजवादी पार्टी का चरित्र हमेशा से दलित विरोधी रहा है, प्रोन्नति में आरक्षण का बिल फाड़ने वाली सपा आंबेडकर के नाम पर ढोंग और स्वांग कर रही है

अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री काल में दलितों का ठेके में आरक्षण ख़त्म किया गया, बाबा साहेब के नाम पर बने कई पार्को और मेडिकल कालेज का नाम बदल कर अपना आंबेडकर की विचारधारा विरोधी चरित्र उजागर कर चुके हैं
उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग में दलितों-पिछड़ों का त्रिस्तरीय आरक्षण न लागू करके ऐतिहासिक रूप से वंचित वर्ग को धोखा दिया है

सैफई परिवार वाहिनी के कमजोर पड़ जाने की परिणिति है बाबा साहेब वाहिनी की घोषणा

लखनऊ, 10 अप्रैल 2021। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पिछड़ा वर्ग विभाग के चेयरमैन मनोज यादव ने सपा सुप्रीमो और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर तीखा हमला बोलते हुए उन्हें दलित-पिछड़ा विरोधी मानसिकता का करार देते हुए कठघरे में खड़ा किया है।

पिछड़ा वर्ग विभाग के चेयरमैन मनोज यादव ने कहा कि सूबे की समाजवादी पार्टी और उसके मुखिया अखिलेश यादव आज पूरी तरह से दलित-पिछड़ों हकमारी के मामले में पूरी तरह से एक्स्पोज हो चुके हैं, दलित-अति पिछड़ा समाज आज उनका साथ छोड़ चुका है । भारत रत्न बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर की जयंतीदलित दिवाली” के रूप में मनाने की घोषणा करना उसी हताशा का परिणाम है। अखिलेश यादव बाबा साहेब की विचारधारा को कुन्द और सीमित करना चाहते हैं।

कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग के पूर्वी ज़ोन के चेयरमैन मनोज यादव ने आज जारी बयान में कहा कि प्रदेश की जनता द्वारा लगातार ख़ारिज किये जाने से सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव विचलित होकर अवैज्ञानिक और अतार्किक निर्णय ले रहे हैं। दलित दिवाली की घोषणा करना उसी हताशा का परिणाम है।

उन्होंने आगे कहा कि जब पूरा देश बाबा साहेब की जयंती समता दिवस के रूप में मना रही है, देश के लोकतंत्र, बंधुत्व और सामाजिक न्याय को मजबूती से स्थापित करने और संविधान पर हो रहे हमले के खिलाफ जयंती कर संघर्ष करने की शपथ लेने का कार्यक्रम कर रही है। ऐसे में सपा सुप्रीमो द्वारा दलित दिवाली की घोषणा करना उनकी सियासी कमजोरी और भाजपा से अंदरखाने सांठगाँठ को दर्शाता है।

मनोज यादव ने कहा कि अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी का चरित्र हमेशा से दलित विरोधी रहा है, प्रोन्नति में आरक्षण का बिल फाड़ने वाली सपा आंबेडकर के नाम पर ढोंग और स्वांग कर रही है। अखिलेश यादव के 2012 में सत्ता पर आते ही दलित बस्तियों पर हमले तेज हो गए थे।

उन्होंने कहा कि दलित दिवाली की बात करने का अधिकार उन्हें नहीं जो जीत की जश्न में दलितों की बस्तियां जलाते हैं।

उन्होंने कहा कि दलितों के उत्पीड़न में सपा-बसपा और भाजपा दोनों एक समान रहे हैं।

मनोज यादव ने आगे कहा कि अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री काल में दलितों का ठेके में आरक्षण ख़त्म किया गया, मिड डे मील में दलित महिला रसोइया के होने के प्रावधानों को शिथिल किया, दलित और पिछड़े महापुरुषों के नाम पर बने पार्क व मेडिकल कालेजों का नाम बदल कर अपना आंबेडकर की विचारधारा विरोधी चरित्र उजागर कर चुकी है।

मनोज यादव के आगे कहा कि उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग में दलितों-पिछड़ों सहित वंचित वर्ग के छात्रों के लिए त्रिस्तरीय आरक्षण को न लागू करके ऐतिहासिक रूप से वंचित वर्ग को धोखा देने का काम पहले ही कर चुके हैं। सामाजिक न्याय को और मजबूत करने और संसाधनों के लोकतान्त्रिक वितरण को सुनिश्चित करने में सपा की दलित पिछड़ों को लेकर राजनीति संघ और भाजपा से प्रेरित होती है।

उन्होंने तंज भरे लहजे में कहा कि सैफई परिवार वाहिनी के कमजोर पड़ जाने की परिणिति है बाबा साहेब वाहिनी की घोषणा। बाबा साहेब वाहिनी बना कर वो बाबा साहेब के राजनैतिक दर्शनों को कुंद करना चाहते हैं।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription