जो खुद सुशासन के मुद्दे पर चुनाव हार गए, वो भाजपा नेता दे रहे सुशासन दिवस की शुभकामनाएं

BJP leaders who lost elections on the issue of good governance themselves, wishing Good Governance Day नई दिल्ली, 25 दिसंबर 2019. कैप्टन अभिमन्यु (Captain Abhimanyu) हरियाणा भाजपा के बड़े नेता हैं, खट्टर-1 सरकार में वित्त मंत्री ही नहीं रहे हैं, बल्कि सरकार में नंबर दो रहे हैं। 2014 व 2019 में मुख्यमंत्री पद का चेहरा …
 | 
जो खुद सुशासन के मुद्दे पर चुनाव हार गए, वो भाजपा नेता दे रहे सुशासन दिवस की शुभकामनाएं

BJP leaders who lost elections on the issue of good governance themselves, wishing Good Governance Day

नई दिल्ली, 25 दिसंबर 2019. कैप्टन अभिमन्यु (Captain Abhimanyu) हरियाणा भाजपा के बड़े नेता हैं, खट्टर-1 सरकार में वित्त मंत्री ही नहीं रहे हैं, बल्कि सरकार में नंबर दो रहे हैं। 2014 व 2019 में मुख्यमंत्री पद का चेहरा भी रहे हैं। लेकिन 2019 के चुनाव में हार गए थे। अब कैप्टन अभिमन्यु ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के जन्म दिवस पर जो बधाई दी है, उसके निहितार्थ समझना मुश्किल है।

कैप्टन अभिमन्यु ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखा,

“सभी देशवासियों को सुशासन दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ. #GoodGovernanceDay ”

हाल ही में झारखंड की जनता ने भाजपा के सुशासन को बुरी तरह नकारा है, यहांतक कि उसके मुख्यमंत्री भी चुनाव हार गए। हरियाणा में भी भाजपा दुष्यंत चौटाला की जजपा से समझौता करके भले ही सत्ता में आ गई हो, लेकिन वहां भी उसे जनता ने नकार दिया था। स्वयं कैप्टन अभिमन्यु भी खुद सुशासन के मुद्दे पर चुनाव हार गए थे, हालांकि कहा ये जा रहा है कि अभिमन्यु को हराने में खट्टर खेमे की भी अंदरूनी साजिश थी। अब यही खेमा सुशासन के पैरोकार कैप्टन अभिमन्यु को हरियाणा भाजपा का अध्यक्ष बनने से रोकने के लिए जुटा हुआ है।

अब सवाल यह है कि क्या रघुवरदास भी “सभी देशवासियों को सुशासन दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ ” देंगे ?

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription