दारापुरी की रिहाई के लिए सीपीआई, स्वराज अभियान, स्वराज इंडिया, जन मंच ने मुख्यमंत्री को भेजा पत्र

प्रदेश की लोकतंत्र और शांति के लिए गैर जिम्मेदार और अधिनायकवादी सरकार के खिलाफ खड़े हों – अखिलेन्द्र 19 दिसम्बर की घटना में गिरफ्तार सभी निर्दोष नागरिकों को रिहा करे प्रदेश सरकार। लखनऊ – 24 दिसम्बर, 2019, राजनीतिक बदले की भावना (Political vendetta) से मजदूर किसान मंच के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व आई जी एस …
 | 
दारापुरी की रिहाई के लिए सीपीआई, स्वराज अभियान, स्वराज इंडिया, जन मंच ने मुख्यमंत्री को भेजा पत्र

प्रदेश की लोकतंत्र और शांति के लिए गैर जिम्मेदार और अधिनायकवादी सरकार के खिलाफ खड़े हों – अखिलेन्द्र

19 दिसम्बर की घटना में गिरफ्तार सभी निर्दोष नागरिकों को रिहा करे प्रदेश सरकार।

लखनऊ – 24 दिसम्बर, 2019, राजनीतिक बदले की भावना (Political vendetta) से मजदूर किसान मंच के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व आई जी एस आर दारापुरी की रिहाई के लिए आज भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, स्वराज अभियान, स्वराज इंडिया, जन मंच, मजदूर किसान मंच ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजा है।

पत्र में 19 दिसम्बर को संशोधित नागरिकता कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के खिलाफ लोकतान्त्रिक ढंग से आंदोलन कर रहे निर्दोष लोगों की गिरफ़्तारी की आलोचना करते हुए उनकी रिहाई की भी मांग की गई है। पत्र पर सीपीआई राज्य समिति सदस्य राकेश वेदा, स्वराज अभियान की प्रदेश अध्यक्ष एड्वोकेट अर्चना, स्वराज इंडिया के प्रदेश अध्यक्ष अनमोल, जन मंच के संयोजक एड्वोकेट नितिन मिश्र एवं मजदूर किसान मंच के प्रभारी दिनकर कपूर ने हस्ताक्षर किए हैं।

दारापुरी की गिरफ़्तारी पर स्वराज इंडिया, नैशनल प्रिसिडीअम के सदस्य अखिलेन्द्र प्रताप सिंह ने प्रदेश की जनता से प्रदेश में लोकतंत्र व शांति के लिए गैर जिम्मेदार और अधिनायक वादी सरकार के खिलाफ खड़े होने, मजदूर किसान मंच के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व आईजी एस आर दारापुरी की गिरफ़्तारी (The arrest of former IG SR Darapuri) का विरोध करने व दारापुरी समेत 19 दिसम्बर की घटना में गिरफ्तार सभी निर्दोष नागरिकों की रिहाई की प्रदेश सरकार से मांग करने की अपील की है।

https://www.hastakshep.com/old/modis-slogan-of-development-is-false/

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription