राष्ट्रपिता के प्रपौत्र बोले,  जहां पुलिस बेकाबू होकर दमनकारी बरतती हो वो मुल्क और किसी का हो सकता है, गांधी का नहीं

Great-grandson of Father of the Nation, Tushar Gandhi targeted police repression नई दिल्ली, 22 दिसंबर 2019. राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के प्रपौत्र तुषार गांधी (Great-grandson of Father of the Nation, Tushar Gandhi) ने भाजपा साषित राज्यों में नागरिकता संशोधन अधिनियम विरोधी प्रदर्शनों (Anti-citizenship amendment act demonstrations) पर पुलिस बर्बरता पर कड़ा प्रतिक्रिया व्यक्त की है। श्री …
 | 
राष्ट्रपिता के प्रपौत्र बोले,  जहां पुलिस बेकाबू होकर दमनकारी बरतती हो वो मुल्क और किसी का हो सकता है, गांधी का नहीं

Great-grandson of Father of the Nation, Tushar Gandhi targeted police repression

नई दिल्ली, 22 दिसंबर 2019. राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के प्रपौत्र तुषार गांधी (Great-grandson of Father of the Nation, Tushar Gandhi) ने भाजपा साषित राज्यों में नागरिकता संशोधन अधिनियम विरोधी प्रदर्शनों (Anti-citizenship amendment act demonstrations) पर पुलिस बर्बरता पर कड़ा प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

श्री गांधी ने ट्वीट किया कि

“जिस मुल्क में CAA और NRC जैसे विभाजक क़ानूनों का समर्थन होता हो और पुलिस बेकाबू होकर दमनकारी बरतती हो वो मुल्क और किसी का हो सकता है गांधी का नहीं।“

उन्होंने आगे कहा,

“अंग्रेज़ों ने जलियांवालाबाग नरसंहार किया। सत्याग्रहियों और क्रांतिकारियों से बरबरता से बरते और ‌अमानवीय अत्याचार किये, पर आखिर में वो हारे,  जनशक्ति हमेशा जीती है। तब भी जीते थे, आज भी जीतेंगे।”

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने पुलिस को नसीहत दी,

“पुलिस को याद रखना चाहिए कि आप नागरिकों को आतंकित करने के लिए सरकार द्वारा नियंत्रित ठग नहीं हैं। आप हमारे संविधान द्वारा सशक्त कानून प्रवर्तन एजेंसी हैं। स्वाभिमान के साथ उस तरह व्यवहार करें। सत्ता में बैठे शैतान को अपनी आत्मा मत बेचो।”

 


पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription