ठंड में खून गाढ़ा होने की वजह से बढ़ जाते हैं हृदय रोग : डॉ असित खन्ना

Heart disease increases due to thickening of blood in cold: Dr. Asit Khanna ठंड में खानपान में नियंत्रण (Control of catering in cold), व्यायाम एवं उचित डॉक्टरी परामर्श (Proper medical consultation) से बचा जा सकता है हृदय रोग से : डॉ धीरेंद्र सिंघानिया गाजियाबाद, 05 जनवरी 2019. ठंड की वजह से बढ़ रही हृदय रोग …
 | 
ठंड में खून गाढ़ा होने की वजह से बढ़ जाते हैं हृदय रोग : डॉ असित खन्ना

Heart disease increases due to thickening of blood in cold: Dr. Asit Khanna

ठंड में खानपान में नियंत्रण (Control of catering in cold), व्यायाम एवं उचित डॉक्टरी परामर्श (Proper medical consultation) से बचा जा सकता है हृदय रोग से : डॉ धीरेंद्र सिंघानिया

गाजियाबाद, 05 जनवरी 2019. ठंड की वजह से बढ़ रही हृदय रोग की समस्याओं (Increasing heart disease problems due to cold) के लिए यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल कौशांबी गाजियाबाद के हृदय रोग विभाग में रविवार को एक विशाल निशुल्क हृदय जांच शिविर लगाया गया। शिविर में 200 से भी ज्यादा लोगों ने भाग लिया ।

इस शिविर में वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ असित खन्ना, डॉ धीरेंद्र सिंघानिया, वरिष्ठ कार्डियक सर्जन (Senior cardiac surgeon in Delhi/ NCR) डॉक्टर आनंद मिलिंद उमरे, डायरेक्टर कार्डियक एनएसथीसिया डॉक्टर राजेश चौहान, एवं डॉक्टर अमर लाल ने मरीजों को निशुल्क परामर्श दिया।

अस्पताल के एक प्रवक्ता ने बताया कि कैंप में आए मरीजों की हृदय से संबंधित विभिन्न जांचें जैसे हृदय का ईसीजी, ब्लड शुगर, तीन महीने का रक्त शर्करा का लेबल बताने वाली जांच hba1c (Hba1c test for three months blood sugar label), खून में वसा की जांच बताने वाली लिपिड प्रोफाइल (Blood fat tester lipid profile) एवं ब्लड प्रेशर जैसी जांचें निशुल्क की गई तथा साथ ही वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञों द्वारा निशुल्क परामर्श भी दिया गया।

कैंप का उद्घाटन यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ पीएन अरोड़ा ने किया।

डॉ असित खन्ना ने बताया कि ठंड के दिनों में हम बाहर घूमना फिरना कम कर देते हैं और खाना पीना भी नियंत्रित नहीं रहता, घी से बनी ज्यादातर चीजें, मिठाइयां, गुड़, मूंगफली, गजक,  गुड़ की पट्टी आदि हम ज्यादा खाते हैं, जिसकी वजह से रक्त में वसा की मात्रा बढ़ जाती है और खून गाढ़ा हो जाता है। ऐसे में ऐसे मरीज या लोग जिन्हें उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हृदय रोग आदि की बीमारी पहले से होती है उनमें हृदय रोगों की संभावना कई गुना बढ़ जाती है तथा कुछ मरीजों में हृदयाघात भी हो जाता है। ऐसे में अपनी सही समय पर उचित जांच एवं डॉक्टरी परामर्श से हृदय रोगों से बचा जा सकता है।

हॉस्पिटल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉक्टर सुनील डागर ने बताया कि ठंड में होने वाली बीमारियों से बचाव हेतु इसी क्रम में अगला विशाल निशुल्क शिविर 12 जनवरी 2020 , रविवार को पक्षाघात, ब्रेन स्ट्रोक, मस्तिष्क एवं नसों की बीमारियों से संबंधित लगाया जाएगा। 12 जनवरी को लग रहे कैंप में वरिष्ठ न्यूरोलॉजिस्ट अपना निशुल्क परामर्श देंगे।

कैंप का संचालन यशोदा हॉस्पिटल के गौरव पांडे, प्रतीम गून, हिमांशु, संजीव, प्रीति, नीलू लक्ष्मी ने किया।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription