ओवैसी का आरोप, कोरोना से हुई मौत के असली आंकड़े छुपा रही मोदी सरकार

असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर उठाया सवाल Owaisi’s allegation, Modi government is hiding the real figures of death due to Corona Asaduddin Owaisi raised questions on Modi government नई दिल्ली, 16 जून ( न्यूज़ हेल्पलाइन ). ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (All India Majlis‑e‑Ittehadul Muslimeen एआईएमआईएम) अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कोरोना से होने वाले मौत …
 | 
ओवैसी का आरोप, कोरोना से हुई मौत के असली आंकड़े छुपा रही मोदी सरकार

असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर उठाया सवाल

Owaisi’s allegation, Modi government is hiding the real figures of death due to Corona

Asaduddin Owaisi raised questions on Modi government

नई दिल्ली, 16 जून ( न्यूज़ हेल्पलाइन ). ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (All India MajliseIttehadul Muslimeen एआईएमआईएम) अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कोरोना से होने वाले मौत के आंकड़ों को लेकर हाल ही में मोदी सरकार द्वारा प्रकाशित किये गए कोरोना आंकड़ों पर सवाल उठाया है। उनका आरोप है कि कोरोना से मौत को लेकर मोदी सरकार ने जो आंकड़ा दिखाया है, हकीकत में मौत उससे कहीं ज्यादा है.

ओवैसी ने कहा कि मोदी सरकार को आम जनता की तकलीफ से कोई लेना देना नहीं है. कितने बच्चे अनाथ हो चुके हैं, वे समझना नहीं चाहते हैं.

Modi government failed during the second wave of Corona

एआईएमआईएम अध्यक्ष ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान मोदी सरकार नाकाम रही है. सरकार वैक्सीनेशन में भी नाकाम रही है.

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार चाहती है कि सिर्फ उनकी झूठी तारीफ हो.

असदुद्दीन ओवैसी ने आगे कहा कि,

”देश में दूसरी लहर के दौरान कोरोना संक्रमण के चलते 20 लाख लोगों की जान जा चुकी है. मोदी सरकार का आंकड़ा वास्तविकता से काफी दूर है. सरकार मौत का असल आंकड़ा छुपा रही है. किसी भी राज्य में ICMR की तरफ से जारी गाइडलाइंस का पालन नहीं किया जा रहा है. प्रत्येक जिले में मौत के आंकड़े छुपाए जा रहे हैं.”

केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए ओवैसी ने कहा कि द इकोनॉमिस्ट के मुताबिक, जितनी मौतें दिखाई जा रही हैं, सही आंकड़ा इससे छह गुणा अधिक है, लेकिन मोदी सरकार इसे मानना नहीं चाहती है.

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription