भारत के प्रधानमंत्री ने कायरों की तरह व्यवहार किया, उन्होंने हमारे देश को नीचा दिखाया : प्रियंका गांधी

सच पर नहीं, प्रोपेगेंडा में यकीन रखते हैं पीएम मोदी : प्रियंका गांधी The Prime Minister of India has behaved like a coward. He has let our country down. नई दिल्ली, 12 जून 2021. प्रधानमंत्री पर एक और निशाना साधते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने सच्चाई …
 | 
भारत के प्रधानमंत्री ने कायरों की तरह व्यवहार किया, उन्होंने हमारे देश को नीचा दिखाया : प्रियंका गांधी

सच पर नहीं, प्रोपेगेंडा में यकीन रखते हैं पीएम मोदी : प्रियंका गांधी

The Prime Minister of India has behaved like a coward. He has let our country down.

नई दिल्ली, 12 जून 2021. प्रधानमंत्री पर एक और निशाना साधते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने सच्चाई को छिपाने और जिम्मेदारी से बचने का प्रयास किया है।

अपने अभियान ‘जिम्मेदार कौन’ के तहत प्रियंका गांधी ने यहां जारी अपने एक बयान में मोदी को अक्षम प्रधानमंत्री और अकुशल शासक बताते हुए कहा कि वह जिम्मेदारी का निर्वहन करने के बजाय प्रचार पर ज्यादा भरोसा करते हैं।

उन्होंने कहा कि किसी संकट के समय में सुशासन का तात्पर्य सच्चाई का सामना करने, जिम्मेदारी लेने और कार्रवाई करने के बारे में है, लेकिन दुर्भाग्य से, मोदी सरकार ने इनमें से कुछ भी नहीं किया। इसके बजाय, शुरूआत से ही महामारी को सच्चाई छिपाई गई और जिम्मेदारी से बचने का हर संभव प्रयास किया गया।

उन्होंने बताया कि संकट के समय में प्रधानमंत्री बड़ी ही आसानी से पीछे हट गए और सबसे बुरे दौर के बीत जाने का इंतजार किया। वह कहती हैं, प्रधानमंत्री ने एक डरपोक व्यक्ति की तरह से बर्ताव किया है। उन्होंने देश की प्रतिष्ठा को गिराया है। पूरी दुनिया शासन करने की उनकी क्षमता को पहचानती है। उन्हें महामारी के खिलाफ बहादुरी से लड़ना चाहिए था, लेकिन उन्होंने कोरोना से लड़ने के लिए किसी के सुझाव को नहीं माना और अहंकार के कारण विशेषज्ञों की राय को भी नजरअंदाज कर दिया जिसका खामियाजा देश को भुगतना पड़ रहा है।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription