आओ हम सब मिलकर भारत के अंहिसा, शांति और प्रेम के संदेश का प्रदर्शन करें

Come, let us all together demonstrate India’s message of harmony, peace and love. नई दिल्ली, 24 फरवरी, 2020. नेशनल पैंथर्स पार्टी के मुख्य संरक्षक, विश्व शांति परिषद के चेयरमैन एवं वरिष्ठ अधिवक्ता प्रो. भीम सिंह ने भारतीय संमाज के सभी वर्गों और राजनीतिक दलों से भारत के शांति से प्रेम, अहिंसा और सद्भाव का, जिसका …
 | 
आओ हम सब मिलकर भारत के अंहिसा, शांति और प्रेम के संदेश का प्रदर्शन करें

Come, let us all together demonstrate India’s message of harmony, peace and love.

नई दिल्ली, 24 फरवरी, 2020. नेशनल पैंथर्स पार्टी के मुख्य संरक्षक, विश्व शांति परिषद के चेयरमैन एवं वरिष्ठ अधिवक्ता प्रो. भीम सिंह ने भारतीय संमाज के सभी वर्गों और राजनीतिक दलों से भारत के शांति से प्रेम, अहिंसा और सद्भाव का, जिसका भारत सदियों से पालन कर रहा है, प्रदर्शन करने की अपील की है।

उन्होंने कुछ तत्वों राजनीतिक या आदि के द्वारा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सड़कों पर शोर मचाने पर गहरा दुख प्रकट किया।

उन्होंने समाज के सभी वर्गों और राजनीतिक दलों से हर तरह की हिंसा, जिसके परिणास्वरूप एक पुलिसकर्मी की मौत हो गयी है, के खिलाफ एकजुट होने की अपील की, खासतौर पर ऐसे समय में जब आज पूरा देश अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत के दौरे पर स्वागत में व्यस्त है। ऐसे समय में राजधानी की सड़कों पर प्रदर्शन या हिंसक गतिविधियां और शांति व्यवस्था बनाए रखने में व्यस्त पुलिस के साथ झड़प अस्वीकार्य है।

प्रो. भीम सिंह ने देश के पूरे नेतृत्व से, उनकी राजनीतिक जुड़ाव के बिना, अपील की कि हम सब देशवासियों, खासतौर पर वे लोग जो लगभग एक महीने ज्यादा से कुछ मुद्दों पर दिल्ली की सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं, भारत के प्रेम, भाईचारे या एकजुटता के प्रदर्शन करने की अपील की।

उन्होंने कहा कि दिल्ली में, जो आज शाम को अमेरिकी राष्ट्रपति का स्वागत करेगी, आज की झड़प से भारत के दुनिया में दोस्तों और शुभचिंतकों को नकारात्मक संदेश जाएगा।

उन्होंने देश के पूरे नेतृत्व से लोगों से हिंसा और हिंसक गतिविधियों से दूर रहने की अपील की, खासतौर पर ऐसे समय में जब दुनिया की बड़ी शक्ति हमारी मेहमान है।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription