बढ़ा रेलभाड़ा रद्द करे सरकार : माले

लखनऊ, 01 जनवरी 2020। भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने नए साल के पहले दिन से लागू होने वाली रेलभाड़ा बढ़ोतरी (Railway freight increase) को रद्द करने की मांग की है। पार्टी ने इसे पहले से ही महंगाई, बेरोजगारी से जूझ रही जनता के कष्टों को और बढ़ाने वाला फैसला बताया है। पार्टी के राज्य …
 | 
बढ़ा रेलभाड़ा रद्द करे सरकार : माले

लखनऊ, 01 जनवरी 2020। भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने नए साल के पहले दिन से लागू होने वाली रेलभाड़ा बढ़ोतरी (Railway freight increase) को रद्द करने की मांग की है। पार्टी ने इसे पहले से ही महंगाई, बेरोजगारी से जूझ रही जनता के कष्टों को और बढ़ाने वाला फैसला बताया है।

पार्टी के राज्य सचिव सुधाकर यादव ने अपनी त्वरित प्रतिक्रिया में कहा कि मोदी सरकार ने देशवासियों की परेशानियों को कम करने के बजाए उसे बढ़ाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है। नष्ट होते रोजगार और मंदी की मार से बेहाल देशवासियों को राहत पहुंचाने की जगह उस पर और भी आर्थिक बोझ लगातार बढ़ाया जा रहा है। राहत तो सिर्फ कारपोरेट घरानों को पंहुचाई जा रही है। एक तरफ सीएए- एनसीआर-विरोधी प्रतिवाद को लेकर लोगों पर दमन ढाया जा रहा है, वहीं जनता की जेब पर भी हमले किये जा रहे हैं। रेलभाड़ा बढ़ने से महंगाई और भी बढ़ेगी। यह सरकार का जनविरोधी फैसला और नए साल की मायूस करने वाली शुरुआत है।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription