इरफान अंसारी जीत गए, योगी जी अब मंदिर बनेगा या नहीं ? मगर शर्म उनको नहीं आती

नई दिल्ली, 24 दिसंबर 2019. अपने सांप्रदायिक और विभाजनकारी वक्तव्यों के लिए पहचाने जाने वाले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath) झारखंड विधानसभा चुनाव परिणाम (Jharkhand Assembly Election Results) आने के बाद सोशल मीडिया पर अपने एक वक्तव्य के लिए सुर्खियां बटोर रहे हैं। बताया जाता है कि झारखंड …
 | 
इरफान अंसारी जीत गए, योगी जी अब मंदिर बनेगा या नहीं ? मगर शर्म उनको नहीं आती

नई दिल्ली, 24 दिसंबर 2019. अपने सांप्रदायिक और विभाजनकारी वक्तव्यों के लिए पहचाने जाने वाले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath) झारखंड विधानसभा चुनाव परिणाम (Jharkhand Assembly Election Results) आने के बाद सोशल मीडिया पर अपने एक वक्तव्य के लिए सुर्खियां बटोर रहे हैं।

बताया जाता है कि झारखंड विधानसभा चुनाव के पांचवें चरण में जामताड़ा में एकजनसभा में योगी ने कहा था कि कोई इरफान अंसारी जीतेगा तो अयोध्या में राम मंदिर कैसे बनेगा ? उनके इसी बयान को लेकर सोशल मीडिया में अब उनकी छीछालेदर हो रही है। सॉफ्टवेयर इंजीनियर कुलदीप कादयान ने योगी के बयान की खबर की कटिंग शेयर करते हुए ट्वीट किया,

“इरफान अंसारी ने 38741 वोटो के अंतर से जीत हासिल की। योगी जी अब मंदिर बनेगा या नहीं ?? ??

@myogiadityanath”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक योगी ने कहा था कि,

कोई इरफान अंसारी जीतेगा तो मंदिर तो नहीं ही बनाएगा न। इसके लिए तो कोई वीरेंद्र मंडल चाहिए ना। जो आप सबके साथ एक-एक शिला लेकर अयोध्या पहुंच सके और भव्य राम मंदिर निर्माण में योगदान दे सके। भाईयों बहनों ये केवल एक मंदिर नहीं है ये भगवान राम की जन्मभूमि में बनने वाला राष्ट्र मंदिर है, जिस पर भारत की आत्मा विराजमान होगी। जो भारत के लोकतंत्र की ताकत का एहसास दुनिया को कराएगा।

अब झारखंड विधानसभा चुनाव के परिणाम आने पर कांग्रेस के इरफान अंसारी न सिर्फ जीत गए हैं बल्कि पिछले विधानसभा चुनाव के मुकाबले चार गुना वोटों से जीते हैं। इरफान अंसारी ने 2014 के विधानसभा चुनाव में वीरेंद्र मंडल को 9137 वोटों से हराया था और 2019 में 38741 वोटो के अंतर से जीत हासिल की है। लेकिन अपने घटिया बयान के लिए योगी को न शर्म पहले आई थी, न अब आएगी।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription