जस्टिस काटजू ने सरकार को समझाया वह करोड़ों किसानों के समूह से नहीं निपट सकती

किसान आंदोलन पर जस्टिस काटजू ने सरकार को समझाया वह करोड़ों किसानों के समूह से नहीं निपट सकती Justice Katju explained to the government that it could not deal with a group of crores of farmers नई दिल्ली, 19 दिसंबर 2020. देश भर में जारी किसान आंदोलन के बीच सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस …
 | 
जस्टिस काटजू ने सरकार को समझाया वह करोड़ों किसानों के समूह से नहीं निपट सकती

किसान आंदोलन पर जस्टिस काटजू ने सरकार को समझाया वह करोड़ों किसानों के समूह से नहीं निपट सकती

Justice Katju explained to the government that it could not deal with a group of crores of farmers

नई दिल्ली, 19 दिसंबर 2020. देश भर में जारी किसान आंदोलन के बीच सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू (Justice Markandey Katju) ने एक बार फिर सरकार को समझाया है कि वह करोड़ों किसानों के समूह से नहीं निपट सकती है।

जस्टिस काटजू ने हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में बारी-बारी से ट्वीट किया –

“सरकार को एक चीज़ समझ लेनी चाहिए : शेर एक हिरन को मार सकता है, मच्छरों के एक झुण्ड को नहींI इसी प्रकार पुलिस चोरों के गिरोह से निपट सकती है, करोड़ों किसानों के समूह से नहीं।“

बता दें जस्टिस काटजू भी पहले सरकारी तंत्र के प्रोपेगंडा को सच मानकर किसान आंदोलन को बड़े किसानों और आढ़तियों द्वारा फंडेड कार्यक्रम मानकर इसकी निंदा कर रहे थे, लेकिन बाद में उन्हें अपनी गलती का एहसास हुआ और हस्तक्षेप डॉट कॉम पर लेख लिखकर बाकायदा स्वीकार किया कि उन्हें समझने में भूल हुई थी और इस किसान आंदोलन ने तो 130 करोड़ भारतीयों को एकजुट कर दिया है और यह आंदोलन जाति, धर्म, भाषा, प्रांत की बेड़ियों को तोड़कर देश भर के किसानों को एकजुट कर रहा है।

https://twitter.com/mkatju/status/1340250441146269696

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription