एमपी में एक लाख से ज्यादा लोगों ने हस्ताक्षर कर आंगनवाड़ी में अंडे देने का किया समर्थन

More than one lakh people signed support for egg laying in Anganwadi in MP भोपाल, 27 दिसंबर 2019. मध्यप्रदेश में एक लाख बीस हजार लोगों ने आंगनवाड़ी में अंडे देने का हस्ताक्षर अभियान चलाकर समर्थन किया है। भोजन के अधिकार अभियान के कार्यकर्ताओं ने खाद्य सुरक्षा से जुड़ी अपनी मांगों का ज्ञापन सोमवार को महिला …
 | 
एमपी में एक लाख से ज्यादा लोगों ने हस्ताक्षर कर आंगनवाड़ी में अंडे देने का किया समर्थन

More than one lakh people signed support for egg laying in Anganwadi in MP

भोपाल, 27 दिसंबर 2019. मध्यप्रदेश में एक लाख बीस हजार लोगों ने आंगनवाड़ी में अंडे देने का हस्ताक्षर अभियान चलाकर समर्थन किया है। भोजन के अधिकार अभियान के कार्यकर्ताओं ने खाद्य सुरक्षा से जुड़ी अपनी मांगों का ज्ञापन सोमवार को महिला एवं बाल विकास के प्रमुख सचिव अनुपम राजन को सौंपा। इसके साथ ही उन्हें हस्ताक्षर सौंपकर मांग की कि मध्यप्रदेश में बच्चों के स्वास्थ्य और पोषण मानकों को बेहतर बनाने के लिए इन पर एक्शन लिया जाना चाहिए।

भोजन के अधिकार अभियान से जुड़े विभिन्न जन संगठनों एवं संस्थाओं द्वारा खाद्य असुरक्षा और कुपोषण से मुक्ति के लिए जनयात्रा 2 अक्टूबर से 20 नवम्बर 2019 निकाली गई। यह यात्रा रीवा, पन्ना, सतना, उमरिया, निवाड़, शिवपुरी, झाबुआ, शहडोल, विदिशा, खंडवा, बडवानी, खरगोन, मंडला, जबलपुर, बैतूल, शाजापुर,  छतरपुर एवं भोपाल जिले में इस जनयात्रा का आयोजन किया गया।

इस यात्रा के माध्यम से बच्चों में कुपोषण को पूरी तरह से खत्म करने के लिए समुदाय से साथ विभिन्न पहुलओं जिसमे सामाजिक, सांस्कृतिक एवं जेंडर जैसे मुद्दों पर चर्चा एवं संवाद किया गया। यात्रा के दौरान समुदाय ने कुपोषण को ख़त्म करने के लिए आंगनवाड़ी एवं मध्यान्ह भोजन में अंडा एवं फल के वितरण, मातृत्व हक़ को दो बच्चों तक लागू करने, आंगनवाडी को क्रेच के रूप में स्थापित करने का व्यापक समर्थन दिया है.

भोजन का अधिकार अभियान की तरफ से राकेश मालवीय, रेखा श्रीधर, शिवराज कुशवाह, जावेद अनीस एवं अंजलि आचार्य ने यह ज्ञापन सौंपा।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription