भोर में आर भारत की एंकर ने कर दिया ऐसा ट्वीट, यूजर्स बोले क्या आप नोटिस अवधि पर हैं

The anchor of R Bharat made such a tweet in the morning, users said, are you on notice period नई दिल्ली, 20 दिसंबर 2020. Jyotsna Bedi(ज्योत्स्ना बेदी) अर्णब गोस्वामी के स्वामित्व वाले रिपब्लिक भारत चैनल की तेज तर्रार एंकर हैं, जो चैनल की लाँचिंग से अर्णब के साथ जुड़ी रही हैं और कई बड़े टास्क …
 | 
भोर में आर भारत की एंकर ने कर दिया ऐसा ट्वीट, यूजर्स बोले क्या आप नोटिस अवधि पर हैं

The anchor of R Bharat made such a tweet in the morning, users said, are you on notice period

नई दिल्ली, 20 दिसंबर 2020. Jyotsna Bedi(ज्योत्स्ना बेदी) अर्णब गोस्वामी के स्वामित्व वाले रिपब्लिक भारत चैनल की तेज तर्रार एंकर हैं, जो चैनल की लाँचिंग से अर्णब के साथ जुड़ी रही हैं और कई बड़े टास्क पर रही हैं। ज्योत्सना बेदी रिपब्लिक भारत की वरिष्ठ समाचार एंकर (jyotsna bedi news anchor) हैं, उन्होंने ज़ी न्यूज़ और न्यूज़ 24 में काम किया है। ज्योत्सना को मीडिया उद्योग में कई सालो का अनुभव है और वह अपनी प्रतिभा के बल पर कुछ ही समय में बड़े मुकाम पर पहुंच गई हैं। आज सुबहृ-सुबह उन्होंने ऐसा ट्वीट कर दिया जिसे लेकर उनके फॉलोअर्स ने सवाल करना शुरू कर दिया।

दरअसल ज्योत्स्ना बेदी ने ट्वीट किया,

“रैली हो सकती है but

सदन नहीं बैठ सकती

#समझे आप लोग या नहीं?”

अब लोग ये समझे कि नहीं कि सदन क्यों नहीं बैठ सकता, लेकिन ज्योत्स्ना बेदी के फॉलोअर्स ने सवाल करना शुरू कर दिए।

एक ट्विटर उपभोक्ता ने उत्तर दिया

आप लगातार महसूस करा रही हैं जैसे कि आप सुनिश्चित करने के लिए r bharat छोड़ रही हैं। क्या आप नोटिस अवधि पर सेवा कर रही हैं ????

एक अन्य ट्विटर उपभोक्ता ने उत्तर दिया,

“आप साहसी हैं। आमतौर पर रिपोर्टर ऐसे पोस्ट को ट्वीट नहीं कर रहे हैं। आपको देखकर आश्चर्य होता है कि आप अपवाद हैं। जब सरकार के खिलाफ टिप्पणी करने की बात आती है तो “दही जम जाता है जुबान पर”।“

ज्योत्स्ना बेदी की ट्विटर प्रोफाइल पर हैडर में जो उक्ति लिखी है, वह काफी कुछ कहती है – “I know I am on the right path, Coz things stopped being easy”। उनके बायो में लिखा है – “ज़िंदगी बड़ी चाहिए,लंबी नहीं”। ज्योत्स्ना बेदी की लंबी और बड़ी ज़िंदगी के लिए मंगलकामनाएं।

https://twitter.com/Indian699877802/status/1340479525457543169

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription