वामपंथी ताली, लोटा और थाली नहीं बजायेंगे, क्योंकि दंगाई दंगे भड़काने को इस का इस्तेमाल करते रहे हैं

The Left will not clap, lota and thali, because rioters have been using it to provoke riots. लखनऊ, 22 मार्च 2020. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने कहा है कि वामपंथी दलों के कार्यकर्ता ताली, लोटा और थाली नहीं बजायेंगे, क्योंकि दंगाई दंगे भड़काने को इस का इस्तेमाल करते रहे हैं। भाकपा के राज्य सचिव डॉ. गिरीश …
 | 
वामपंथी ताली, लोटा और थाली नहीं बजायेंगे, क्योंकि दंगाई दंगे भड़काने को इस का इस्तेमाल करते रहे हैं

The Left will not clap, lota and thali, because rioters have been using it to provoke riots.

लखनऊ, 22 मार्च 2020. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने कहा है कि वामपंथी दलों के कार्यकर्ता ताली, लोटा और थाली नहीं बजायेंगे, क्योंकि दंगाई दंगे भड़काने को इस का इस्तेमाल करते रहे हैं।

भाकपा के राज्य सचिव डॉ. गिरीश चन्द्र शर्मा ने कहा कि

“हम वामपंथियों ने सारे प्रोग्राम रद्द करने और एकाकी रहने के निर्देश पहले ही सारे कार्यकर्ताओं को जारी कर दिये थे। हम सब ऐसा कर भी रहे हैं।

22 मार्च यानी आज भी हम घरों में रह कर ही अटेंशन की स्थिति में खड़े होकर उन सभी को सेल्यूट करेंगे जो कोरोना की रोकथाम में लगे हैं।

शहीद भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु के शहादत की पूर्व संध्या है आज। अतएव उनको भी सेल्यूट पेश करेंगे।

हम ताली, लोटा और थाली नहीं बजायेंगे। क्योंकि दंगाई दंगे भड़काने को इस अपवित्र विधा का इस्तेमाल करते रहे हैं।

इसके अलाबा हम हर तरह के बेरोजगार बने व्यक्तियों और तमाम गरीबों को जरूरी सामान मुफ्त दिलाने को आवाज उठाते रहेंगे। जय हिंद। लाल सलाम। जय भीम।”.

यह भी पढ़ें –

कोरोना से लड़ने के लिए पीएम मोदी के जनता कर्फ्यू आइडिया से हैरान हैं वैज्ञानिक और डॉक्टर, शर्मिंदा हैं अपनी पढ़ाई पर !

कोरोना वायरस : सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल के लिए क्या प्रधानमंत्री वाकई गंभीर हैं? इतने गंभीर संकट पर भी जुमलेबाजी !

 

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription