अयोध्या के संत के साथ धोखाधड़ी, मंदिर की संपत्ति हड़पने का प्रयास

 | 
युगल किशोर शरण शास्त्री (Yugal Kishore Saran Shastri)

 Cheating with the saint of Ayodhya, an attempt to grab the property of the temple

फर्जी तरीके से सर्वरहकारी दर्ज कराने का आरोप

अयोध्या 01 जुलाई 2021. अयोध्या दुराही कुआ स्थित सरयू कुंज मंदिर के सर्वराहकार युगल किशोर शरण शास्त्री (Yugal Kishore Saran Shastri) ने आरोप लगाया है कि विगत तीन वर्ष पूर्व जब वह ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित थे तभी राममिलन ने एक अन्य व्यक्ति के सहयोग से कहीं ले जाकर तकर्ररुर सर्वरहकारी लिखा लिया।

श्री शास्त्री का कहना है कि राममिलन से उनका कोई सम्बंध नहीं है और न ही उन्होंने उसे कोई दीक्षा दी है। राजदेव शाह राममिलन के पिता हैं, जो बच्छारपुर, सीतामढ़ी बिहार के निवासी है। मतदाता पहचान पत्र में उन्होंने गलत ढंग से मुझे अपना पिता दर्शाया है।

श्री शास्त्री कहना है कि उनके साथ धोखाधड़ी की गयी है। इस आशय की लिखित सूचना थाना राम जन्मभूमि में दी गयी कोई कार्यवाही ना होने पर उन्होंने कोर्ट की शरण ली है । राम मिलन के विरूद्ध 156/3 में कानूनी कार्यवाही सहित सिविल कोर्ट में तकर्ररुर सर्वराहकारी निरस्त करने हेतु भी वाद दायर कर दिया है।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription