यूपी की सियासी हवा को गर्मा गया प्रियंका का दौरा

कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा का यूपी दौरा, उत्तर प्रदेश की राजनीति को गर्मा गया है। अभी तक विधानसभा चुनाव में लड़ाई से बाहर समझे जानी वाली कांग्रेस अब मुख्य लड़ाई में आने को बेताब है।
 | 
Priyanka-Gandhi-at-Lucknow
 लखनऊ 17 जुलाई। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की राष्ट्रीय महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा ने आज अपने दौरे के दूसरे दिन सुबह सर्वप्रथम लखीमपुर के पसगंवा पहुंचकर पंचायत चुनाव में कथित भाजपाई गुण्डई और ज्यादती की शिकार महिलाओं से मुलाकात की।

उन्होंने कहा कि ऐसे जोर जबरदस्ती के दम पर जहां कहीं भी लोगों को नामांकन करने से रोका गया है, नामांकन पत्र फाड़े गये हैं उन सभी जगहों पर सख्त कार्यवाही होनी चाहिए भले ही यह कृत्य करने वाला कितने भी ऊंचे पद पर क्यों न बैठा हो। उन्होंने महिलाओं को नामांकन भरे जाने से रोकने को लोकतंत्र के खिलाफ बताते हुए दुबारा चुनाव कराये जाने की मांग की साथ ही चुनाव आयोग को इस सम्बन्ध में पत्र लिखने की भी घोषणा की।

इन महिलाओं के साथ हुई अमानवीय कृत्य एवं अभद्रता तथा वस्त्र खींचे जाने पर उत्तर प्रदेश सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा कि लोकतंत्र का चीरहरण करने वाले भाजपा के गुण्डे कान खोलकर सुन लें महिलाएं, प्रधान, ब्लाक प्रमुख, विधायक, सांसद, मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री बनेंगीं उन पर अत्याचार करने वालों को शह देने वाली सरकार को शिकस्त देंगी।

उन्होंने कहा कि चुनाव लड़ना सभी का संवैधानिक अधिकार है जो कि इनसे छीना गया उनको घेरकर पीटा गया, उनकी साड़ी खींची गई और कपड़े फाड़े गये। आप सोच सकते है कि उन पर क्या बीती होगी उनके साथ उनका छोटा बच्चा, 19 साल का लड़का और पूरा परिवार साथ में था इस तरीके का अत्याचार होता रहा और किसी ने उनको रोका भी नहीं, जिस सीओ ने बचाने की कोशिश की उसे सस्पेंड कर दिया और जो अधिकारी मूक दर्शक बने खड़े रहे उन पर कोई कार्यवाही नहीं हुई, इस विषय पर प्रशासन मौन है। चुनाव में छोटी सी गड़बड़ी होने पर भी चुनाव रद्द कर दुबारा कराये जाते हैं तो यहां दुबारा चुनाव क्यों नहीं हुआ, क्या इनको चुनाव लड़ने का अधिकार नहीं है? क्या कोई भी दस गुण्डों के साथ आकर चुनाव जीत सकता है? क्या यह लोकतंत्र है आज का?

उन्होंने मीडिया बन्धुओं को सम्बोधित करते इस अलोकतांत्रिक एवं गैर संवैधानिक कृत्य पर आवाज उठाने की अपील की

उन्होंने कहा कि मीडिया को प्रश्न उठाना चाहिए। प्रधानमंत्री ने पंचायत चुनाव पर उत्तर प्रदेश सरकार को बधाई दिया जबकि हर जिले में कुछ ना कुछ गड़बड़ी हुई है कहीं पर मारपीट, कहीं बम तो कहीं गोलियां भी चलीं।

इसके पश्चात उत्तर प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में पार्टी के पूर्व सांसद, पूर्व विधायक, पूर्व जिला एवं शहर अध्यक्षों, जिला पंचायत सदस्यों एवं ब्लाक प्रमुखों तथा पार्टी फ्रंटल विभाग प्रकोष्ठ के अध्यक्षों के साथ बैठक किया। अमेठी एवं रायबरेली के ब्लाक अध्यक्षों के साथ भी व्यापक विचार विमर्श किया। उन्होंने उपरोक्त समस्त पदाधिकारियों के साथ आगामी रणनीतियों पर व्यापक मंथन किया।

उन्होंने न्याय पंचायत तक गठित संगठन के बाद शीघ्र ही ग्राम पंचायत स्तर तक संगठन को मजबूत करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि कोरोना में आप लोगों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, पिछले डेढ़ साल में हम लोगों ने सभी के लिए आवाज उठाई सड़क पर कोई पार्टी आई तो वह सिर्फ कांग्रेस ही है।

प्रदेश मुख्यालय में उपस्थित प्रदेश के सभी जनपदों से आये हुए नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि आप लोग कांग्रेस पार्टी मजबूत सिपाही हैं हम सबको एक जुट होकर एक सेना की तरह काम करते हुए फिर से तिरगे झण्डे को लहराना है।

बैठक को सम्बोधित करते हुए उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने सभी पदाधिकारियों का स्वागत किया एवं 2022 के विधान सभा चुनाव की तैयारियों जुट जाने का आहवान किया। उन्होंने समस्त पदाधिकारियों को शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी जी ने प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले युवाओं से रुकी हुई उप्र में रुकी हुई भर्तियों, खाली पड़े पदों एवं भारी-भरकम बेरोजगारी पर चर्चा की।

प्रियंका गांधी जी ने युवाओं से कहा कि वे पहले भी युवा प्रतियोगी छात्र-छात्राओं की बात उठाती रही हैं और आगे भी युवा एजेंडा को अपने घोषणापत्र में शामिल करेंगी।

कार्यक्रम को उत्तर प्रदेश कांग्रेस की विधान सभा में आवाज, नेता विधान मण्डल दल श्रीमती आराधना मिश्रा मोना तथा प्रमोद तिवारी ने कार्यक्रम को सम्बोधित किया।

कार्यक्रम में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिवगण जुबैर खान, धीरज गुर्जर, राजेश तिवारी, रोहित चौधरी, बाजीराव खाड़े, प्रदीप नरवाल एवं तौकीर आलम भी उपस्थित रहे।

इसके अतिरिक्त कार्यक्रम में पूर्व सांसद एवं मंत्री जफर अली नकवी, पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य, पूर्व नेता विधान मण्डल दल प्रदीप माथुर, नेता विधान परिषद दीपक सिंह, पूर्व सांसद श्रीमती बेगम नूर बानो, पूर्व सांसद एवं मंत्री विनय कुमार पाण्डेय विन्नू, पूर्व सांसद डॉ. राजेश मिश्रा, पूर्व सांसद प्रवीण ऐरन, पूर्व सांसद कमल किशोर कमाण्डो, पूर्व सांसद राकेश सचान, पूर्व सांसद जितेन्द्र सिंह, पूर्व सांसद मोहम्मद मुकीम एवं पूर्व सांसद बालकृष्ण चौहान तथा पूर्व विधायकगण  हरीश बाजपेयी,  संजय कपूर,  अजय राय,  नदीम जावेद,  पंकज मलिक,  गजेन्द्र सिह,  विनोद चतुर्वेदी,  ललितेशपति त्रिपाठी,  वंशी पहाड़िया,  भगौती प्रसाद चौधरी, पूर्व मंत्री  बादशाह सिंह,  अशोक सिंह,  युसुफ अली आदि मौजूद रहे।

उक्त जानकारी उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता डॉ. उमा शंकर पाण्डेय ने दी।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription