सपा ने भाजपा को वाक ओवर दिया, अखिलेश के पास अपनी बिरादरी का 20 प्रतिशत वोट ही बचा

सपा ने ज़िला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में भाजपा को वाक ओवर दे दिया. सपा के ज़िला पंचायत सदस्यों ने अखिलेश यादव की मुस्लिम विरोधी रणनीति के तहत भाजपा के ज़िला पंचायत अध्यक्ष बनवाये हैं.
 | 
Shahnawaz Alam

सपा ने ज़िला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में भाजपा को वाक ओवर दे दिया- शाहनवाज़ आलम

आज अखिलेश यादव जी के पास अपनी बिरादरी का 20 प्रतिशत वोट ही बचा है

स्पीक अप माइनोरिटी - 5 में अल्पसंख्यक कांग्रेस नेताओं ने उठाया सपा-भाजपा गठजोड़ पर सवाल

लखनऊ, 4 जुलाई 2021. अल्पसंख्यक कांग्रेस ने स्पीक अप माइनोरिटी कैम्पेन के पांचवे चैप्टर के तहत ज़िला पंचायत अध्यक्ष के चुनावों में सपा पर भाजपा को वाक ओवर दे देने का आरोप लगाया. अल्पसंख्यक कांग्रेस हर रविवार को फेसबुक लाइव के माध्यम से यह अभियान चलाती है. इस बार क़रीब दो हज़ार लोगों ने इसमें हिस्सा लिया.

अल्पसंख्यक कांग्रेस प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने कहा कि संभल, बदायूं, फरुखाबाद और शाहजहाँपुर में भाजपा की तरफ से क्रमशः अनामिका यादव, वर्षा यादव, मोनिका यादव और ममता यादव जी का ज़िला पंचायत अध्यक्ष बन जाना साबित करता है कि अखिलेश यादव जी के पास अब अपनी बिरादरी का भी वोट नहीं बचा है.

उन्होंने कहा कि सपा के ज़िला पंचायत सदस्यों ने अखिलेश यादव की मुस्लिम विरोधी रणनीति के तहत भाजपा के ज़िला पंचायत अध्यक्ष बनवाये हैं.

उन्होंने इसकी तुलना मुलायम सिंह यादव के संसद में दिये उस बयान से की जिसमें उन्होंने मोदी जी के दुबारा प्रधान मन्त्री बनने की ख्वाहिश ज़ाहिर करते हुए अपने सजातीय मतदाताओं को भाजपा में वोट देने का संकेत दे दिया था. जिसके बाद बदायूं, कन्नौज, फिरोजाबाद जैसी सजातीय सीटों पर भी भाजपा जीत गयी थी.

उन्होंने कहा कि आज सपा के पास अपने जातिगत वोट का 20 प्रतिशत ही बचा है.

शाहनवाज़ आलम ने बताया कि स्पीक अप माइनोरिटी कैम्पेन के तहत आज इन मुद्दों पर अल्पसंख्यक समुदायों को जागरूक किया गया.

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription