क्या कांग्रेस में चल रहा है राहुल और चिदंबरम के बीच कुछ तनाव ? ये देखकर तो ऐसा ही लगता है

ट्रेन सेवा बहाली को लेकर कांग्रेस में मतभेद | Differences in congress regarding restoration of train service नई दिल्ली, 11 मई 2020. ट्रेन सेवाओं को बहाली को लेकर कांग्रेस में मतभेद सोमवार को सामने आ गए। दिल्ली की पार्टी नेता राधिका खेड़ा ने कोरोनोवायरस महामारी के बीच एक राज्य से दूसरे राज्य में ट्रेन सेवाओं …
 | 
क्या कांग्रेस में चल रहा है राहुल और चिदंबरम के बीच कुछ तनाव ? ये देखकर तो ऐसा ही लगता है

ट्रेन सेवा बहाली को लेकर कांग्रेस में मतभेद | Differences in congress regarding restoration of train service

नई दिल्ली, 11 मई 2020. ट्रेन सेवाओं को बहाली को लेकर कांग्रेस में मतभेद सोमवार को सामने आ गए। दिल्ली की पार्टी नेता राधिका खेड़ा ने कोरोनोवायरस महामारी के बीच एक राज्य से दूसरे राज्य में ट्रेन सेवाओं को फिर से शुरू करने के केंद्र सरकार के कदम का समर्थन करने पर पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम से सवाल किया है।

दरअसल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने ट्वीट कर सरकार के फैसले का स्वागत किया और कहा,

“हम एक राज्य से दूसरे राज्य में यात्री ट्रेनों के संचालन को एहतियात के साथ शुरू करने के सरकार के फैसले का स्वागत करते हैं। सड़क परिवहन और हवाई सेवाओं को भी शुरू किया जाना चाहिए।”

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा,

“आर्थिक और वाणिज्यिक गतिविधि प्रभावी ढंग से शुरू करने का एकमात्र तरीका यात्रियों और माल के लिए सड़क, रेल और हवाई सेवाएं खोलना है।”

हालांकि, पार्टी के भीतर उनके विचारों का विरोध किया गया। कांग्रेस की मीडिया समन्वयक और राहुल गांधी का नजदीकी समझी जाने वालीं राधिका खेड़ा ने ट्विटर पर लिखा,

“सर, हालांकि हमें कोविड-19 के साथ रहना सीखना होगा, हमें यह भी देखना होगा कि सरकार चीजों को नियंत्रित करने में विफल रही है। अब तक एक दिन में 4,213 मामलों के सामने आने के साथ बड़ी उछाल देखी गई है। हमें अन्य देशों से सीखने की जरूरत है और सामान्य स्थिति की ओर जाने से पहले कर्व के समतल होने की प्रतीक्षा करनी चाहिए।”

भारत में एक दिन में कोविड-19 के सबसे ज्यादा मामले सामने आने के बाद खेड़ा की यह टिप्पणी आई। पिछले 24 घंटों में 97 मौतों के साथ सोमवार को 4,213 नए मामले सामने आए।

क्या कांग्रेस में चल रहा है राहुल और चिदंबरम के बीच कुछ तनाव ? ये देखकर तो ऐसा ही लगता है  बता दें बीच में ऐसी चर्चा सामने आई थी कि चिदंबरम स्वयं को 2024 के लिए मोदी के मुकाबले प्रोजेक्ट किए जाने के इच्छुक हैं और इसके लिए उन्होंने बाकायदा कुछ उद्योगपतियों का समर्थन जुटा लिया है। इधर जिस तरीके से राहुल गांधी लगातार जनता के मुद्दों को उठा रहे हैं वह मनमोहन सिंह और चिदंबरम की आर्थिक नीतियों, (जिनका मोदी अनुसरण कर रहे हैं) के खिलाफ जाता है।

हालांकि बाद में राधिका खेड़ा का ट्वीट गायब हो गया। ट्विटराती चर्चा कर रहे हैं कि राधिका का ट्वीट दबाव डालकर डिलीट करवाया गया। ट्विटराती राधिका के ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर कर रहे हैं, जिसकी हस्तक्षेप पुष्टि नहीं करता है।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription