गूगल डूडल : स्पेशल डूडल के साथ लीप ईयर मना रहा है गूगल

Google doodle: Google celebrating leap year with special doodle नई दिल्ली, 29 फरवरी 2020. दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन गूगल आज विशेष डूडल के साथ लीप ईयर (Leap Year) मना रहा है। लीप ईयर वह साल होता है जिसमें एक दिन अतिरिक्त होता है। हर चार साल के बाद यह दिन 29 फरवरी के …
 | 
गूगल डूडल : स्पेशल डूडल के साथ लीप ईयर मना रहा है गूगल

Google doodle: Google celebrating leap year with special doodle

नई दिल्ली, 29 फरवरी 2020. दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन गूगल आज विशेष डूडल के साथ लीप ईयर (Leap Year) मना रहा है। लीप ईयर वह साल होता है जिसमें एक दिन अतिरिक्त होता है। हर चार साल के बाद यह दिन 29 फरवरी के रूप में हमारे कैलेंडर में दिखता है।

गूगल (Google) हर खास दिन को अपने विशेष डूडल से मनाता है। इसीलिए आज गूगल डूडल में लीप डे (Leap Day) को दिखाया गया है।

क्या होता है लीप डे What is leap day

लीप डे (leap day IN hINDI) हर चार साल में आने वाले लीप इयर में आता है। यह दिन 29 फरवरी का होता है। पिछला लीप डे 2016 में था। लीप डे हमारे कैलेंडर के पृथ्वी और सूर्य की चाल से तालमेल बनाए रखने के लिए जरूरी होता है।

गूगल डूडल : स्पेशल डूडल के साथ लीप ईयर मना रहा है गूगल
गूगल डूडल : स्पेशल डूडल के साथ लीप ईयर मना रहा है गूगल

अगला लीप ईयर सन् 2024 में

आज गूगल ने अपने डूडल में लोगो बदला है और इसमें 28, 29, और 1 अंक दिखाया गया है जो फरवरी और मार्च के बीच हर चार साल में आने वाले एक अतिरिक्त दिन यानी कि 29 फरवरी को दर्शाता है। अगला लीप ईयर अब सन् 2024 और सन् 2028 में होगा। पिछला लीप ईयर साल 2016 में था।

साल का सबसे छोटा महीना फरवरी

लीप ईयर वह साल होता है जिसमें 366 दिन होते हैं। लीप डे के कारण ही फरवरी को साल का सबसे छोटा महीना कहा जाता है।

गूगल ने समझाते हुए कहा,

‘हमें लीप ईयर की जूरूरत इसलिए ताकि कैलेंडर का संतुलन पृथ्वी द्वारा सूर्य का चक्कर लगाने पर बना रहे। ऐसा न होने पर हर साल इसमें 6 घंटे का फर्क आ जाएगा’।

जानिए कितने समय में पृथ्वी लगाती है सूर्य का चक्कर Know how long the earth revolves around the sun

आमतौर पर यह माना जाता है कि धरती सूर्य का पूरा चक्‍कर 365 दिन में लगाती है, लेकिन सच यह है कि धरती का खगोलीय वर्ष 365.25 दिन का होता है, यानि धरती 365 दिन और 6 घंटे में सूरज का एक चक्‍कर पूरा करती है।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription