इंग्लैंड में बढ़ी महामारी, एप्पल ने यूके में सभी स्टोर बंद किए

Pandemic increases in England, Apple closes all stores in UK नई दिल्ली, 5 जनवरी 2020. युनाइटेड किंगडम (यूके) में कोविड-19 महामारी में वृद्धि के बाद एप्पल ने सभी रिटेल स्टोर को अस्थायी रूप से बंद कर दिया है। एप्पल ने कैलिफोर्निया, मैक्सिको, ब्राजील में भी स्टोर बंद कर दिया है। लंदन में करीब एक दर्जन …
 | 
इंग्लैंड में बढ़ी महामारी, एप्पल ने यूके में सभी स्टोर बंद किए

Pandemic increases in England, Apple closes all stores in UK

नई दिल्ली, 5 जनवरी 2020. युनाइटेड किंगडम (यूके) में कोविड-19 महामारी में वृद्धि के बाद एप्पल ने सभी रिटेल स्टोर को अस्थायी रूप से बंद कर दिया है।

एप्पल ने कैलिफोर्निया, मैक्सिको, ब्राजील में भी स्टोर बंद कर दिया है। लंदन में करीब एक दर्जन से अधिक स्टोर को बंद किया गया है।

टेक दिग्गज ने अब इंग्लैंड और स्कॉटलैंड में नए दौर के कठिन लॉकडाउन के बाद यूके में अपने शेष 18 रिटेल स्टोर अस्थायी रूप से बंद कर दिए हैं।

All 18 UK Apple Stores open today will close from January 5.

एप्पल के माइकल स्टीबर ने एक ट्वीट में कहा, यूके के सभी 18 एप्पल स्टोर आज 5 जनवरी से बंद हो जाएंगे, जिसमें स्कॉटलैंड के स्टोर भी शामिल हैं।

एप्पल यूके में 38 स्टोर संचालित करता है, जिनमें से 20 दिसंबर के महीने में ही बंद हो गए थे।

रिपोर्ट में कहा गया है, दिसंबर में घोषित टीयर-4 कोविड प्रतिबंधों के बाद सिर्फ ऑनलाइन ऑर्डर लिए जा रहे हैं।

England another lockdown after the rise in the coronavirus epidemic

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने सोमवार को घोषणा की कि कोरोनावायरस महामारी में वृद्धि के बाद इंग्लैंड एक और लॉकडाउन में प्रवेश करेगा।

उन्होंने देश भर के लोगों से घर पर रहने का आग्रह किया है।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, नवीनतम अपडेट में ब्रिटेन में एक दिन में 58,784 लोग इस वायरस से संक्रमित पाए गए, जो महामारी की शुरूआत के बाद से उच्चतम दैनिक आंकड़ा है।

देश में अब कुल 2,721,622 मामले और 75,547 मौतें हुई हैं।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription