जस्टिस काटजू ने पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए मुसलमानों को भारतीय नागरिकता लेने का रास्ता बताया; मोशा का मूड हो जाएगा खराब

Justice Katju suggests for taking Indian citizenship to Muslims from Pakistan, Afghanistan and Bangladesh; Modi-Shah will get upset नई दिल्ली, 21 दिसंबर 2019. पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए मुसलमानों को भारतीय नागरिकता लेने का जो नुस्खा जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने सुझाया है उससे मोदी-शाह का सीएए संकट में पड सकता है। सर्वोच्च न्यायालय के …
 | 
जस्टिस काटजू ने पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए मुसलमानों को भारतीय नागरिकता लेने का रास्ता बताया; मोशा का मूड हो जाएगा खराब

Justice Katju suggests for taking Indian citizenship to Muslims from Pakistan, Afghanistan and Bangladesh; Modi-Shah will get upset

नई दिल्ली, 21 दिसंबर 2019. पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए मुसलमानों को भारतीय नागरिकता लेने का जो नुस्खा जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने सुझाया है उससे मोदी-शाह का सीएए संकट में पड सकता है।

सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कण्डेय काटजू ने अपने सत्यापित ट्विटर हैंडल पर ट्वीट किया है

“#CAA खत्म करने के लिए पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के मुसलमानों के लिए एक आईडिया:

हिंदू धर्म / सिख धर्म / बौद्ध धर्म / जैन धर्म / ईसाई धर्म / पारसी धर्म में परिवर्तित हो और भारतीय नागरिकता प्राप्त करें।

फिर एक या दो साल के बाद में फिर से इस्लाम ग्रहण करें। धर्मांतरण / पुनर्धर्मांतरण के लिए कोई कानूनी रोक नहीं है”

इसी थ्रेड में उन्होंने आगे लिखा,

“आप अपनी जाति नहीं बदल सकते, लेकिन आप अपना धर्म बदल सकते हैं।

हरि ओम”

हालांकि जस्टिस काटजू ने यह टिप्पणी हल्के मूड में की है, लेकिन उनकी टिप्पणी सीएए के प्रवर्तक मोदी-शाह का मूड खराब करने के लिए पर्याप्त है।

कौन हैं मार्कंडेय काटजू?

अपने ऐतिहासिक फैसलों के लिए प्रसिद्ध रहे जस्टिस मार्कंडेय काटजू 2011 में सुप्रीम कोर्ट से सेवानिवृत्त हुए उसके बाद वह प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन रहे। आजकल वह अमेरिका प्रवास पर कैलीफोर्निया में समय व्यतीत कर रहे हैं और सोशल मीडिया पर खासे सक्रिय हैं और भारत की समस्याओं पर खुलकर अपने विचार व्यक्त कर रहे हैं।

 

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription