आरएसएस की मंदिर राजनीति की शरारत को रोको

आरएसएस की मंदिर राजनीति की शरारत को रोको आरएसएस गठजोड़ ने एक बार फिर अपने राम मंदिर के एजेंडे के एजेंडे की आग को हवा देने का फैसला कर लिया है। पिछले ही हफ्ते राजस्थान से लाल पत्थर के दो ट्रक अयोध्या पहुंचे। वैसे तो यह कथित रूप से मंदिर के निर्माण के लिए पत्थर …
 | 
आरएसएस की मंदिर राजनीति की शरारत को रोको

आरएसएस की मंदिर राजनीति की शरारत को रोको

आरएसएस गठजोड़ ने एक बार फिर अपने राम मंदिर के एजेंडे के एजेंडे की आग को हवा देने का फैसला कर लिया है। पिछले ही हफ्ते राजस्थान से लाल पत्थर के दो ट्रक अयोध्या पहुंचे। वैसे तो यह कथित रूप से मंदिर के निर्माण के लिए पत्थर एकत्र किए जाने का ही हिस्सा है।

अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद द्वारा चलायी जा रही वर्कशॉपों में मंदिर निर्माण के लिए पत्थरों को तैयार करने का काम रुक-रुककर चलता रहा है। बहरहाल, पत्थरों की इस खेप का अयोध्या पहुंचने पर बड़े समारोहपूर्वक स्वागत किया गया। आठ वर्ष के बाद, पत्थर की यह खेप अयोध्या पहुंची है।

विहिप द्वारा संचालित, रामजन्म भूमि न्यास के नेताओं का कहना है कि मोदी के सत्ता में आने के साथ उन्हें इसके ‘‘सकारात्मक संकेत’’ मिले हैं कि मंदिर बनने जा रहा है। इन सकारात्मक संकेतों में आरएसएस के मुखिया, मोहन भागवत की टिप्पणी को भी शामिल किया जा सकता है, जिन्होंने 3 दिसंबर को कोलकाता में कहा था कि, ‘‘मंदिर कब और कैसे बनेगा, यह कोई नहीं सकता है’’ फिर भी, ‘‘हमें तैयार रहना चाहिए।’’

उन्होंने यह भी कहा कि मंदिर उनकी आंखों के सामने बनेगा।

अयोध्या में विहिप की सरगर्मियों के बढ़ऩे को एक राजनीतिक उद्देश्य को लेकर, मंदिर के मुद्दे का फिर से सुलगाने की संघ परिवार की तैयारियों के रूप में ही देखा जाना चाहिए। याद रहे कि 2017 की शुरूआत में उत्तर प्रदेश में विधानसभाई चुनाव होने हैं और आरएसएस-भाजपा गठजोड़, इन चुनावों की तैयारी में फिर सांप्रदायिक कड़ाह को आग पर चढ़ाने जा रहा है। अगर जरूरत पड़ी तो वह इस कड़ाह को उबालने की हद तक भी गर्म कर सकता है। बिहार के चुनाव से भाजपा के समर्थन में लगातार गिरावट की सचाई सामने आने के बाद, आरएसएस ने अपने तरकश के सांप्रदायिक तीर पैने करने शुरू कर दिए हैं।

अयोध्या का मुद्दा इस समय अदालत के सामने है और लंबे समय से यह अदालती आदेश लागू है कि जिस जगह पर बाबरी मस्जिद रही थी, उस पर यथास्थिति बनाए रखी जाए।

मंदिर के निर्माण के लिए अयोध्या में पत्थर इकट्ठे किए जाने को, इस न्यायिक आदेश के उल्लंघन के रूप में देखा जाना चाहिए। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने जिला अधिकारियों को सतर्क रहने के आदेश दे दिए हैं। लेकिन, यह काफी नहीं है। उत्तर प्रदेश सरकार को जिला प्रशासन को निर्देश देना चाहिए कि अयोध्या में बाहर से पत्थर लाने जैसी ऐसी सभी गतिविधियों को भी रुकवाए, जो यथास्थिति के साथ छेड़छाड़ करती हैं। जिस शरारत की तैयारी हो रही है, उसे शुरूआत में ही दबा देना जरूरी है।

प्रकाश कारात

 

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription