डोनाल्ड ट्रंप ने वापस मांगा आईफोन में होम बटन, लोग बोले ओबामा आप से कई गुना बेहतर थे

डोनाल्ड ट्रंप ने वापस मांगा आईफोन में होम बटन, लोग बोले ओबामा आप से कई गुना बेहतर थे नई दिल्ली, 28 अक्टूबर 2019. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) ने माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्विटर (Micro-blogging site Twitter) के माध्यम से आईफोन डिजाइन (Iphone design) को लेकर एप्पल के सीईओ टिम कुक (Apple CEO Tim …
 | 
डोनाल्ड ट्रंप ने वापस मांगा आईफोन में होम बटन, लोग बोले ओबामा आप से कई गुना बेहतर थे

डोनाल्ड ट्रंप ने वापस मांगा आईफोन में होम बटन, लोग बोले ओबामा आप से कई गुना बेहतर थे

नई दिल्ली, 28 अक्टूबर 2019. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) ने माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्विटर (Micro-blogging site Twitter) के माध्यम से आईफोन डिजाइन (Iphone design) को लेकर एप्पल के सीईओ टिम कुक (Apple CEO Tim Cook) की आलोचना की। ट्रंप ने लिखा कि आईफोन का होम बटन कैसे वर्तमान की व्यवस्था से बेहतर था।

अपने ट्वीट में ट्रंप ने कहा, “टू टिम : आईफोन का बटन स्वाइप से कई बेहतर था।”

2017 में आईफोन के नए मॉडल डिजाइन से फिजिक्ल बटन को हटा दिया गया था। इसी को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति ने कुक पर निशाना साधा।

आईफोन एक्स से स्वाइप कंट्रोल के चलते होम बटन को हटा दिया गया था।

इसी की तरह ही आईफोन एक्सएस और नई आईफोन 11 सीरीज में होम बटन शामिल नहीं किया गया है।

ट्रंप का ट्वीट वायरल हुआ इसके बाद उसे लेकर उपभोक्ताओं की प्रतिक्रियाएं सामने आई हैं।

एक ट्विटर उपभोक्ता ने लिखा, “सैनिकों को वापस घर लाने जैसी बात करने से कई अच्छा है उन्हें सच में वापस लाना।”

एक अन्य ने लिखा, “टू डोनाल्ड : ओबामा आप से कई गुना बेहतर थे।”

एक महिला उपभोक्ता ने लिखा, “एलओएल! यह देखकर अच्छा लगा दुनिया का सबसे ताकतवर व्यक्ति एप्पल की क्लास ले रहा है।”

मार्च में ट्रंप ने कुक को ‘टिम एप्पल’ कहकर संबोधित किया था, जिसके बाद सोशल मीडिया पर कई मजेदार प्रतिक्रियाएं देखने को मिली थी।

एप्पल के सीईओ ने बाद में ट्विटर पर अपना नाम बदलकर ‘टिम एप्पल’ रख लिया था, उन्होंने अपने सरनेम ‘कुक’ के स्थान पर कंपनी का लॉगो (एप्पल) इस्तेमाल किया था। यह पूरा वाक्या सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription