दोषी हूँ लेकिन जेल जाने भर का दोषी नहीं हूँ

रणधीर सिंह सुमन भारत के प्रधानमंत्री तथा पूर्व नौकरशाह डॉक्टर मनमोहन सिंह ने कहा कि वह उतने दोषी नहीं हैं जितना उनके बारे में प्रचार किया गया है। तो प्रधानमंत्री जितना दोषी हैं उतना दोष जनता को बता दें, लेकिन उन्होंने अपने से सम्बंधित भ्रष्टाचारों के मुद्दों पर बड़ी नाटकीयता के साथ निकलने की भी …
 | 

रणधीर सिंह सुमन

भारत के प्रधानमंत्री तथा पूर्व नौकरशाह डॉक्टर मनमोहन सिंह ने कहा कि वह उतने दोषी नहीं हैं जितना उनके बारे में प्रचार किया गया है। तो प्रधानमंत्री जितना दोषी हैं उतना दोष जनता को बता दें, लेकिन उन्होंने अपने से सम्बंधित भ्रष्टाचारों के मुद्दों पर बड़ी नाटकीयता के साथ निकलने की भी कोशिश की। इसरो से सम्बंधित देवास समझौता सीधे प्रधानमंत्री से सम्बद्ध है ( जिससे देश को दो लाख करोड़ रुपये की हानि होती ) रद्द किया गया। स्पेक्ट्रम घोटाला, राष्ट्रमंडल खेल घोटाला सहित जितने घोटाले हैं। सामूहिक जिम्मेदारी के तहत उसके जिम्मेदार डॉक्टर मनमोहन सिंह हैं। भारतीय संघ के प्रधानमंत्री को मजबूर होना या मजबूरियां गिनाना शोभा नहीं देता है। जमाखोरों को खुली छूट पेट्रोलियम पदार्थों के मूल्यों में आये दिन बढ़ोत्तरी करना, राज्यों में अव्यवस्था का दौर जारी रहना। अमेरिका के सामने हमेशा घुटने टेके रहने में आपकी कौन सी मजबूरी है। आप इस देश के अक्षम प्रधानमंत्री हैं। आपकी सरकार भ्रष्टाचार में डूबी हुई सरकार है। आपकी सरकार ने जिन इजारेदार पूंजीपतियों से चंदा लिया है उनके काम करने के लिए आपके पास कोई मजबूरी नहीं होती है। रही भारतीय जनता पार्टी की बात उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण से लेकर प्रमोद महाजन तक के कार्य कलापों की जानकारी सबको है। जनता मजबूर है आप जैसे कुछ दोषी प्रधानमंत्री को ढ़ोने के लिए। अगर प्रधानमंत्री जी आपमें जरा सा भी नैतिक आत्मबल है तो मजबूरियां छोड़ कर, बातें बनाने से अच्छा है कि आप अपने पद से हट जाइये। प्रधानमंत्री जी बेशर्मी की एक हद होती है उस सीमा को भी पार कर चुके हैं।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription