बड़ी ख़बर : भाजपा से गठबंधन तोड़ लेगी शिवसेना

भाजपा को शिवसेना देगी जोर का झटका आदित्य ठाकरे का बड़ा बयान महाराष्ट्र में शिवसेना और भाजपा में आई दरार दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। बढ़ती दूरियों के बीच अब शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने बड़ा बयान दिया है, जिससे भाजपा और शिवसेना का गठबंधन एक बार फिर से संकट में …
 | 
भाजपा को शिवसेना देगी जोर का झटका

आदित्य ठाकरे का बड़ा बयान

महाराष्ट्र में शिवसेना और भाजपा में आई दरार दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। बढ़ती दूरियों के बीच अब शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने बड़ा बयान दिया है, जिससे भाजपा और शिवसेना का गठबंधन एक बार फिर से संकट में नजर आ रहा है।

भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना अक्सर केंद्र सरकार की नीतियों पर सवाल उठाते हुए हमलावर रहती है, जिसकी वजह से केंद्र और राज्य में दोनों पार्टिंया आरपार के मूड में रहती है। लेकिन इस बार शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने ऐलान कर दिया है कि शिवसेना जल्द ही भाजपा से गठबंधन तोड़ लेगी।

शिवसेना की युवा इकाई के प्रमुख आदित्य ठाकरे ने कहा कि शिवसेना एक वर्ष में सरकार छोड़ देगी और अपने बल पर सत्ता में वापस आएगी। आदित्य ठाकरे ने कहा कि पार्टी सरकार कब छोड़ेगी इसका निर्णय शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे करेंगे।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव 2019 में होगा। वैसे भाजपा के साथ बिगड़े रिश्तों के बीच शिवसेना इससे पहले भी एनडीए सरकार से बाहर होने की कई बार धमकी दे चुकी है।

आपको बता दें कि नोटबंदी के बाद से ही शिवसेना कई मुद्दों पर भाजपा और केंद्र सरकार पर लगातार हमलावर रही है।

इससे पहले भी आदित्य ठाकरे ने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए कहा था कि देश में अगर एक मजबूत लीडरशीप, बहुमत वाली सरकार, और मजबूत इंटेलिजेंस सर्विस होने के बाद भी कोई पार्टी कहती है कि पड़ोसी देश उसके राज्यों के चुनाव में लोगों के मन को प्रभावित कर सकता है तो सरकार क्या कर रही है? प्रचार कर रही है।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription