पटेल रैप…गये थे नमाज़ पढ़ने, रोज़े गले पड़े

खुशदीप सहगल आप मॉडर्न संगीत के शौकीन हैं तो आपने गुजरात के दिबांग पटेल का पटेल रैप आपने सुना होगा। लेकिन यहाँ गुजरात के एक और पटेल का ज़िक्र हो रहा है। ये पटेल साहब हैं गुजरात के ऊर्जा और पेट्रोकैमिकल्स मंत्री सौरभ पटेल। मोदी के ख़ासमख़ास माने जाते हैं। यहाँ तक कि अगर मोदी …
 | 

खुशदीप सहगल
आप मॉडर्न संगीत के शौकीन हैं तो आपने गुजरात के दिबांग पटेल का पटेल रैप आपने सुना होगा। लेकिन यहाँ गुजरात के एक और पटेल का ज़िक्र हो रहा है। ये पटेल साहब हैं गुजरात के ऊर्जा और पेट्रोकैमिकल्स मंत्री सौरभ पटेल। मोदी के ख़ासमख़ास माने जाते हैं। यहाँ तक कि अगर मोदी के प्रधानमंत्री बनने की स्थिति आती है तो सौरभ पटेल का नाम गुजरात के मुख्यमंत्री पद के प्रमुख दावेदारों में शुमार होता है। लेकिन सौरभ पटेल को चुनाव आयोग से आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल के ख़िलाफ़ शिकायत करना उलटा पड़ गया।
सौरभ पटेल रिलायंस इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड के सीनियर डायरेक्टर रमणीक लाल अंबानी के दामाद हैं। रमणीक लाल रिलायंस इंडस्ट्री के संस्थापक धीरूभाई अंबानी के बड़े भाई है। केजरीवाल मार्च में गुजरात के तीन दिन के दौरे पर आए थे तो उन्होंने आरोप लगाया था कि सौरभ पटेल का कुछ चुनिन्दा उद्योगपतियों से घनिष्ठ नाता है। केजरीवाल का ये भी आरोप था कि सौरभ पटेल को ऊर्जा और पेट्रोकैमिकल्स मंत्रालय का दिया जाना और रिलायंस पेट्रोकैमिकल्स का यहाँ फलना-फूलना मात्र संयोग नहीं कहा जा सकता।
सौरभ पटेल की पहचान सभी विवादित मुद्दों पर चुप्पी बरतने की रही है। लेकिन इस बार केजरीवाल के आरोप के बाद वो तमतमा गये। उन्होंने सीधे चुनाव आयोग में केजरीवाल के ख़िलाफ़ ‘गैर जिम्मेदार और अपमानजनक बयान’ के लिये कार्रवाई के लिये शिकायत कर दी। चुनाव आयोग ने केजरीवाल से तो कोई स्पष्टीकरण नहीं माँगा, लेकिन गुजरात के मुख्य चुनाव अधिकारी से सौरभ पटेल का लेखा-जोखा ज़रूर मँगा लिया है। इसमें पटेल के विभाग और उनके अंबानी परिवार से रिश्ते के बारे जानकारी माँगी गयी है। सौरभ पटेल का कहना है कि उनका अंबानी परिवार से रिश्ता 25 साल पुराना है। पटेल के मुताबिक वो जल्दी ही चुनाव आयोग को अपना जवाब भेज देंगे।
 

पटेल रैप…गये थे नमाज़ पढ़ने, रोज़े गले पड़े

About the author

खुशदीप सहगल, वरिष्ठ पत्रकार और जाने-पहचाने ब्लॉगर हैं।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription