3डी अवतार मोदी का

सुनील कुमार नरेन्द्र मोदी 15 अगस्त, 2013 को नकली लाल किला बनाकर प्रधानमंत्री के अवतार में आये और उसके बाद ‘‘हर हर मोदी, घर घर मोदी’’ नारे के साथ महादेव के अवतार में प्रकट हुए। लेकिन हिन्दू धर्म-गुरूओं के विरोध के कारण उनको यह अवतार छोड़ना पड़ा। मोदी अब तीसरे अवतार 3डी के रूप …
 | 

सुनील कुमार
    नरेन्द्र मोदी 15 अगस्त, 2013 को नकली लाल किला बनाकर प्रधानमंत्री के अवतार में आये और उसके बाद ‘‘हर हर मोदी, घर घर मोदी’’ नारे के साथ महादेव के अवतार में प्रकट हुए। लेकिन हिन्दू धर्म-गुरूओं के विरोध के कारण उनको यह अवतार छोड़ना पड़ा। मोदी अब तीसरे अवतार 3डी के रूप में आये हैं। मोदी अगले चरण के चुनाव से पहले उन क्षेत्रों के मतदाताओं तक 3 डी अवतार लेकर पहुंच रहे हैं। इस 3 डी अवतार के बाद वे विश्व रिकॉर्ड बनाने का दावा करते हैं।
    मोदी ने 11 अप्रैल, 2014 को 3 डी के माध्यम से 49.20 मिनट तक भाषण दिया और इस भाषण में उन्होंने  51 बार ‘भाईयों एवं बहनों’ का सम्बोधन किया। मुझे उनके इस भाषण को सुनते हुए गोयबsल्स की याद आ रही थी कि ‘‘एक झूठ को इतनी बार कहो कि लोग उसे सच मानने लगें’’। नरेन्द्र मोदी इसी से प्रेरणा लेकर लोगों के सामने ‘भाईयों एवं बहनों’ को दुहराते रहे। पहले 7.5 मिनट में उन्होंने दो बार ही ‘भाईयों एवं बहनों’ का जाप किया था। शायद इतने कम समय में वे यह समझ गये होंगे कि लोग उनकी बात को अपने-पन से नहीं ले रहे हैं। इसीलिए उन्हें अपने-पन की याद दिलाते हुए 42 मिनट में 49 बार ‘भाईयों एवं बहनों’ का जाप  करना पड़ा। मोदी ने अपना भाषण देते हुए दर्शकों/श्रोताओं को बताया कि 15 सितम्बर, 2013 से वे 350 से अधिक स्थानों पर चुनावी सभाएं कर चुके हैं और आज वे 3 डी के माध्यम से 20 राज्यों के 100 से अधिक जगहों पर लोगों को सम्बोधित कर रहे हैं, जो कि विश्व रिकॉर्ड है। गुजरात विधान सभा के चुनाव में एक साथ 53 जगहों पर सम्बोधन करने का पुराना रिकॉर्ड भी मेरे नाम से ‘गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में दर्ज है, लेकिन आज मैं अपने ही रिकॉर्ड को डेढ़ साल बाद तोड़ रहा हूं।
    मोदी रेकॉर्ड बनाने में काफी आगे हैं और उनका रेकॉर्ड कोई तोड़ नहीं सकता, वो अपना रिकॉर्ड खुद तोड़ते हैं। मोदी जी, आपके राज्य में 2002 में सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक 1044 लोग मारे गये हैं, 223 गायब हैं और 2548 घायल हुए, जबकि गैर सरकारी रिपोर्टों में यह संख्या इससे अधिक बतायी जाती है। क्या आप प्रधानमंत्री बन कर गुजरात के इस रिकॉर्ड को भी तोड़ देंगे? आप कहते हैं कि मैं फेसबुक, ट्वीटर, गुगल हैंग आउट इत्यादि के माध्यम से यंग इंडिया के साथ जुड़ा हुआ हूं, क्योंकि भारत के युवा डिजीटिल इंडिया से जुड़े हैं। डिजीटिल इंडिया ने युवाओं को समाज की वास्तविकता से काट दिया है और पूरे दिन वे फेसबुक, ट्वीटर इत्यादि पर ही अपना समय व्यतीत करते हैं। इस यंग इंडिया के युवा यात्रा के समय या ऑफिस व घरों में भी अपने सहयात्रियों, सहकर्मियों या परिवार के सदस्यों  से बात नहीं करते। समय मिलते ही वे फेसबुक, ट्वीटर इत्यादि पर सक्रिय हो जाता है, जहां उनके अदृश्य दोस्त होते हैं जिसको वे जानते भी नहीं हैं। यही कारण है कि आप के मीडिया प्रबंधक फेसबुक, ट्वीटर के द्वारा गुजरात की झूठी विकास कहानी गढ़ते रहते हैं। आप उन मतदाताओं की प्रशंसा करते हैं जो पहली बार वोट डाल रहे हैं, क्योंकि आपको मालूम है कि गुजरात जनसंहार के समय वे मतदाता 6-7 वर्ष के रहे होंगे और उसकी सच्चाई से अनजान होंगे।
    मोदी जी कहते हैं कि कांग्रेस को जितनी ताकत मिली है उतना ही भ्रष्टाचार बढ़ा है और 16 मई, 2014 को एनडीए की सरकार बन रही है इसलिए इसे ताकतवर करके भेजें। मोदी जी यह सही है कि कांग्रेस के शासन काल में बहुत सारे घोटाले हुए हैं। यही हालत बाजपेयी के शासन काल में भी देखने को मिली थी, जिसमें जया जेटली से लेकर बंगारू लक्ष्मण तक फंसे थे। आप के ही पार्टी के एक बड़े नेता जूदेव को पैसा लेकर माथे से लगाते हुए दिखाया गया था। अभी आप को भाजपा ने ताकत दिया तो आपने अपने ही बुर्जुग नेताओं को किनारे लगा दिया। पोस्टरों, होर्डिंगों पर मोदी ही मोदी दिखाई दे रहे हैं। जब आप ताकतवर प्रधानमंत्री बन जायेंगे तो क्या हिटलर जैसा व्यवहार करेंगे?
    आप टूरिज्म से देश से का विकास करना चाहते हैं। इसके लिए अपने राज्य में आप पटेल की मूर्ति 2500 करोड़ रुपये खर्च करके लगा रहे हैं। टूरिज्म से किसका विकास होता है? गोवा में हम देख चुके हैं कि पेट की भूख मिटाने के लिए वहां की स्थानीय युवतियां नंगी होकर पर्यटकों के सामने  नाच करती हैं। क्या आप इसी तरह का विकास करना चाहते हैं? आप जो 2500 करोड़ रुपये मूर्ति बनाने में खर्च कर रहे हैं, क्या शिक्षा और स्वास्थ्य पर इसे खर्च नहीं किया जा सकता है? आपके द्वारा बनाये गये स्पेशल ट्रेनिंग सेन्टर्स में बच्चे क्यों नहीं आ पा रहे हैं? आपने उन्हें वहां लाने की क्या व्यवस्था की है? अहमदाबाद के 547 सेन्टरों में से 206 में कोई बच्चे नहीं हैं। इसका क्या कारण है? मोदी कहते हैं कि विश्व में 3 डी का प्रयोग कहीं नहीं हुआ है, यह पिछड़े देश में हो रहा है। इस पिछड़े देश में जहां आम आदमी 28 से 33 रुपये प्रतिदिन पर जिन्दा रहता है, वहीं अदानी ग्रुप की बाजार पूंजी 25 दिन में 20 हजार करोड़ रुपये बढ़ जाती है। यही हमारे पिछड़े देश की वास्तविकता है। जहां एक मरीज साधन नहीं होने के कारण अस्पताल पहुंचने से पहले दम तोड़ देता है, वहीं इस देश के राजनेता दिन-रात हवाई सफर कर रहे होते हैं।
नरेन्द्र मोदी का 3 डी होलो ग्राम की अवतार 11 अप्रैल के बाद 14 अप्रैल को हुआ। 3 डी की एंकर ने मोदी के भाषण से पहले उनके बखान में कहा कि मोदी आप के साथ हैं, प्रत्यक्ष है, आप के पास हैं ऐसा एहसास आपको होगा। टेक्नोलॉजी का इतना उत्तम प्रयोग लोगों से जुड़ने के लिए मोदी जी ने ही किया है। वे वीडियो कान्फ्रेंसिंग, मोबाईल फोन, सोशल नेटवर्किंग (फेसबुक, ट्वीटर, वेबसाईट, ब्लॉग, गूगल हैंगआवट) और चाय पर चर्चा से जुड़ने के बाद 3 डी का अद्भुत मॉडल अपनाया है। आंखों में सपने और दिल में विश्वास भारत के विकास का है दिल में प्यास। मोदी के भाषण से पहले इस तरह की बातें करके एक मजबूत भूमिका रख दी जाती है। दर्शकों/श्रोताओं को कभी यह नहीं बताया गया कि इस तरह के प्रचार-प्रसार पर कितना खर्च हो रहा है।
14 अप्रैल अम्बेडकर जयंती होने के कारण मोदी का निशाना दलित वोट बैंक पर था। ‘‘ढोल, गंवार, शुद्र, पशु, नारी, सकल ताड़ना के अधिकारी’’ विचार को मानने वाले मोदी जी को अम्बेडकर जयंती दलितों के लिए एक त्यौहार के रूप में याद आ गया। उन्होंने कहा कि ‘‘अम्बेडकर ने छुआ-छूत के खिलाफ जंग छेड़ा था। लोकतंत्र के लिए संविधान दिया लेकिन इन्दिरा गांधी के समय लोकतंत्र खतरे में आ गया था।’’ इन्दिरा गांधी अपने ही पार्टी में अपने विरोधियों को जिस तरह से धकेल दिया था आज वैसे ही आप ने अपने विरोधियों को पार्टी में हाशिये पर खड़ा कर दिया है। चुनावी पोस्टर पर्चे मोदी मोदी और मोदी से भरी पड़ी है। आप के विरोधी का कोई नाम लेवा नहीं है यहां तक कि आप के समर्थक और भाजपा के अध्यक्ष राजनाथ सिंह का नाम भी पोस्टरों, बैनरों से गायब है। मोदी जी कहते हैं कि ‘‘लोकतंत्र का मुलभूत स्वभाव होता है आलोचना को सहज स्वीकार करना, विरोध का भी सम्मान करना।’’ लेकिन आप के ही नेता और कार्यकर्ता मोदी के विरोध करने वालों को पाकिस्तान जाने की बात करते हैं, लोगों की पिटाई कर रहे हैं। क्या आप यह ज्ञान आपने नेताओं और कार्यकताओं को नहीं देते हैं? या यह वक्तव्य आप का मुखौटा है?
‘‘1857 के संग्राम में हम देखते हैं कि बिरसा मुंडा जैसे कितने महासपूत, आदिवासी समाज के नौजवान देश की आजादी के लिए जान की बाजी लगा दिया था। गुजरात, मध्यप्रदेश, राजस्थान की सीमा पर गोविन्दगु अंग्रेजों के दांत खट्टे करने की बड़ी ताकत रखते थे।’’ मोदी जी आज आदिवासी समाज के घरों को जलाया जा रहा है, हत्याएं की जा रही है तो आप चुप क्यों हैं? आदिवासी इलाकों में प्राकृतिक संसाधनों को लूटने के लिए ग्रीन हंट ऑपरेशन चलाये जा रहे हैं जिसमें आप और आप की पार्टी शामिल है। फिर ये आदिवासियों का गुणगान क्यों?
मोदी जी आप कहते हैं कि ‘‘भारत की संविधान बोलने का अधिकार और अपनी भावनाओं को अभिव्यक्ति करने का अधिकार दिया है, सच बोलने का ताकत दिया है तो भारत का प्रधानमंत्री चुप क्यों हैं?’’ भारत के प्रधानमंत्री चुप होंगे लेकिन जब इस देश की जनता सच बोलती है अधिकारों की बात करती है तो उसकी आवाज को लाठियों, गोलियों व जेल के दम पर दबा दिया जाता है और आप उसके समर्थन करते हैं। जब सिंगूर के किसान अपनी जमीन को बचाने के लिए नैनों को भागाया तो आप ने उसे आमंत्रित करके अहमदाबाद में जमीन दिया। मारूति सुजूकी के मजदूर अपने संवैधानिक अधिकार की मांग कर रहे थे, उस समय आप ओसामू सुजूकी (सुजूकी कम्पनी का मालिक) को लुभाने में लगे हुए थे। संविधान का आप इतना आदर करते हैं तो कर्नाटक में धर्मान्तरण पर ईसाइयों के चर्च क्यों जलाये गये, ननों के साथ बलात्कार क्यों हुआ?
आप बोलते हैं कि ‘‘मैं देश का विकास करना चाहता हूं मैं देश के जवानों को काम देना चाहता हूं, देश के जवानों को अवसर देना चाहता हूं उनका भाग्य बदलना चाहता हूं।’’ देश का विकास किस तरह से होगा टूरिज्म के अलावा आपके पास क्या योजना है? देश के युवकों को किस तरह का काम देना चाहते हैं, कितने संख्या में काम देंगे कब तक देंगे? क्या देश के युवकों को वैसा ही काम देंगे जैसे आप के भाषण में जब आप का केयर टेकर युवक आप को कोई पेपर पकड़ना चाहते हैं और आप उस पर ध्यान भी नहीं देते वह कुछ सयम खड़ा होने के बाद चला जाता है। आप के बाड़मेर में (जहां से आप लोकसभा प्रत्याशी भी हैं और उस प्रदेश का तीसरी बार मुख्यमंत्री बने हैं) लोग अभी भी पानी के लिए तरस रहे हैं क्या आपका यही विकास मॉडल है? क्या विकास का आप विकास की मार्केटिंग कर रहे हैं? आप कहते हैं कि ‘‘राजनीति का अपराधीकरण नहीं होने देंगे। जो लोकसभा और विधानसभा में चुन कर आये हैं, उनके लिए अलग कोर्ट की व्यवस्था की जायेगी जो सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में चलेगी और एक साल के अन्दर दूध का दूध, पानी का पानी हो जायेगा। जो अपराधी हैं वह जेल जायेगें और जो अपराधी नहीं हैं व झूठे केस में फंसाये गये हैं उनको मुक्ति मिल जाये। इसमें किसी तरह का भेद भाव नहीं किया जायेगा।’’ यह कदम आपका स्वागत योग्य है लेकिन यह क्या गारंटी है कि वास्तविक दोषियों को जेल भेज पायेंगे? आप के ही पार्टी के गिरिराज सिंह जब आपके विरोधियों को धमकी देते हैं तो आप उन पर कार्रवाई करने के बजाय चुप हो जाते हैं। भ्रष्टाचार में लिप्त येदुरप्पा को आप की ही पार्टी ने टिकट दिया है।
आप कह रहे हैं कि 15 राज्यों में सौ से अधिक स्थानों पर लाखों लोग से बात कर रहा हूं यह विश्व रिकॉर्ड है और इस रिकॉर्ड में आप लोग भी शामिल हैं।’’ 11 अप्रैल को भी आपने 3 डी के सम्बोधन में कहा था कि 20 राज्यों में 100 से अधिक स्थानों पर आप लोगों तक पहुंच कर रिकॉर्ड बना रहे हैं और अपने ही पिछले रिकॉर्ड जो ‘गिनिज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में दर्ज है उसको तोड़ रहे हैं। तो क्या आज आप का 15 राज्यों में सम्बोधन, 11 अप्रैल के 20 राज्यों के सम्बोधन के रिकॉर्ड को तोड़ रहा है? आपने बिहार में भाषण देते हुए कहा था कि सिकन्दर को बिहार के लोगों ने भगा दिया था, तक्षशिला बिहार में है और अपने को आप देश भक्त कहते है और देशभक्तों के विषय में भी आपकी जानकारी वैसी ही है जैसा कि आपने शहीदे आजम भगत सिंह के लिए कहा था कि अंग्रेजों ने उनको काला पानी भेज दिया था। तो क्या आपका विश्व रिकॉर्ड भी इसी तरह के इतिहास से निकला हुआ है? क्या दर्शक/श्रोता आपके विश्व रिकॉर्ड में उसी तरह शामिल हैं जैसा कि 1947 के बाद भारत के विकास में आम जनता शामिल रहा है? आप सर्व धर्म सद्भाव की बात करते हैं लेकिन आपके भाषण में वही नाम याद आते हैं (गंगा, यमुना, राम, कृष्ण) जो हिन्दू धर्म में पवित्र माने जाते हैं तो बाकि धर्म कहां खड़ा हैं मोदी जी?

About the author

सुनील कुमार, लेखक सामाजिक-राजनैतिक कार्यकर्ता हैं