42 करोड़ हो गई मधुमेह पीड़ितों की संख्या संख्या- डब्ल्यूएचओ

WHO calls for healthier diets to combat alarming surge in diabetes विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि वर्ष 1980 से अब तक वैश्विक तौर पर मधुमेह पीड़ितों की संख्या में लगभग चार गुनी वृद्धि हुई है और यह 42 करोड़ हो गई है। विकासशील देशों में भी मधुमेह पीड़ितों की संख्या तेजी से …
 | 

WHO calls for healthier diets to combat alarming surge in diabetes

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि वर्ष 1980 से अब तक वैश्विक तौर पर मधुमेह पीड़ितों की संख्या में लगभग चार गुनी वृद्धि हुई है और यह 42 करोड़ हो गई है।

विकासशील देशों में भी मधुमेह पीड़ितों की संख्या तेजी से बढ़ी है। इसके प्रमुख कारणों में मोटापा और वजन बढ़ना है।

विश्व स्वास्थ्य दिवस (7 अप्रैल) से एक दिन पहले बुधवार को मधुमेह पर जारी अपनी पहली 'ग्लोबल रिपोर्ट ऑन डाइबिटीज'  Global report on diabetes में डब्ल्यूएचओ ने रोग की रोकथाम और इसके उपचारों की आवश्यकता पर प्रकाश डाला।

डब्ल्यूएचओ की महानिदेशक मार्गरेट चान ने जोर देते हुए कहा,

"यदि हम मधुमेह के प्रसार को रोकने की दिशा में बढ़ना चाहते हैं तो हमें अपने रोजमर्रा के जीवन, खानपान और शारीरिक सक्रियता पर ध्यान देना होगा तथा वजन को बढ़ने से रोकना होगा।"

उन्होंने कहा कि सरकारों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि गरीबी के हालात में भी लोग स्वस्थ्य विकल्प का चुनाव कर सकें और मधुमेह की जांच तथा इलाज कम से कम खर्च पर की जा सके। विश्व स्वास्थ्य दिवस वर्ष 1948 में इसी दिन डब्ल्यूएचओ की स्थापना के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। यह हर साल वैश्विक स्वास्थ्य के मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने का एक अच्छा अवसर होता है।

April 7,2016 03:49 को प्रकाशित

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

<iframe width="600" height="493" src="https://www.youtube.com/embed/kPOZ07uQESE" frameborder="0" allow="autoplay; encrypted-media" allowfullscreen></iframe>

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription