आप की फ्रॉडलेंट “वैकल्पिक राजनीति” का जनाजा बड़ी धूम से निकला– जस्टिस काटजू

नई दिल्ली, 28 अप्रैल। अपने बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहने वाले उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश मार्कंडेय काटजू ने कहा है कि दिल्ली नगर निगमों के (एमसीडी) चुनाव नतीजों के मद्देनजर राष्ट्रपति के पास के इस बात का आधार है कि वह केजरीवाल सरकार को बर्खास्त कर दें। न्यायमूर्ति काटजू ने अपने आधिकारिक …
 | 

नई दिल्ली, 28 अप्रैल। अपने बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहने वाले उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश मार्कंडेय काटजू ने कहा है कि दिल्ली नगर निगमों के (एमसीडी) चुनाव नतीजों के मद्देनजर राष्ट्रपति के पास के इस बात का आधार है कि वह केजरीवाल सरकार को बर्खास्त कर दें।

न्यायमूर्ति काटजू ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर लिखा है कि एमसीडी चुनावों के बाद राष्ट्रपति के पास दिल्ली सरकार को बर्खास्त करने का उचित अधिकार है और वह इसे बर्खास्त कर विधानसभा का चुनाव करवा सकते हैं।

पूर्व न्यायाधीश ने अपने इस तर्क को सही ठहराने के लिये उच्चतम न्यायालय के एक फैसले को भी उद्धृत किया है।

स्टेट ऑफ राजस्थान बनाम भारत सरकार, एफआईआर 1977 एसी 1361 मामले हवाला देते हुए उन्होंने कहा है कि इस मामले में शीर्ष न्यायालय के सात न्यायाधीशों की पीठ ने यह व्यवस्था दी थी कि यदि कोई पार्टी किसी चुनाव में बुरी तरह पराजित हो जाती है तो इसका मतलब यह है कि अब वह पार्टी लोगों की इच्छा का प्रतिनिधित्व नहीं करती और लोग अब पूरी तरह पार्टी के खिलाफ हो गये हैं। इससे यह भी स्पष्ट होता है कि जनता और पार्टी के बीच दूरी आ गयी है।

न्यायमूर्ति काटजू ने कहा कि लोकतंत्र में जनता की राय सबसे अहम है और ऐसा माना जाता है कि विधायक जनता की राय का प्रतिनिधित्व करता है।

अत: बाद के किसी भी चुनाव में पार्टी की पूरी तरह हार का मतलब है कि अब वह लोगों की इच्छा की प्रतिनिधित्व नहीं करती इसलिए ऐसी सरकार को राष्ट्रपति संविधान के अनुच्छेद 356 के तहत बर्खास्त कर नये चुनाव करा सकते हैं।

पूर्व न्यायाधीश ने यह भी स्पष्ट किया है कि इस मुकदमे के तथ्य और मुद्दे अलग थे।

उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय द्वारा उस मामले में दी गयी व्यवस्था दिल्ली के मामले में भी लागू होती है।

निगम के चुनावों के परिणाम के बाद यह स्पष्ट हो गया है कि आम आदमी पार्टी की सरकार अब दिल्ली की जनता की इच्छा का प्रतिनिधित्व नहीं करती।

गौरतलब है कि बुधवार को आये दिल्ली के तीनों निगमों के चुनावों के नतीजों से आप को करारा झटका लगा है और उसके 40 उम्मीदवार तो अपनी जमानत भी नहीं बचा पाये।

तीनों निगमों पर भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) हैट्रिक लगाने में कामयाब रही । कुल 270 वार्डों के चुनाव परिणामों में से 181 पर भारतीय जनता पार्टी विजयी रही जबकि आप को सिर्फ 48 सीटों पर ही सफलता मिली। तीस सीटें कांग्रेस को मिली।

इससे पहले जस्टिस काटजू ने फेसबुक पर लिखा था –

आप की फ्रॉडलेंट "वैकल्पिक राजनीति" का जनाजा बड़ी धूम से निकला

उन्होंने फेसबुक पर लिखा

अब तेरा क्या होगा केजरीवालिया !