अब जिसे चाहे आतंकवादी करार दे सकती है सरकार, राज्यसभा में पारित हुआ यूएपीए संशोधन

नई दिल्ली, 02 अगस्त 2019. अब सरकार जिसे चाहे आतंकवादी घोषित कर सकती है, इस आशय की शक्तियां सरकार को गैर कानूनी गतिविधि निरोधक (संशोधन) विधेयक, 2019 में संशोधन (Amendment to the Unlawful Activities Prevention (Amendment) Bill, 2019) के जरिए मिल गई हैं। किसी व्यक्ति को आतंकवादी घोषित करने के प्रावधान वाले गैर कानूनी गतिविधि …
 | 
अब जिसे चाहे आतंकवादी करार दे सकती है सरकार, राज्यसभा में पारित हुआ यूएपीए संशोधन

नई दिल्ली, 02 अगस्त 2019. अब सरकार जिसे चाहे आतंकवादी घोषित कर सकती है, इस आशय की शक्तियां सरकार को गैर कानूनी गतिविधि निरोधक (संशोधन) विधेयक, 2019 में संशोधन (Amendment to the Unlawful Activities Prevention (Amendment) Bill, 2019) के जरिए मिल गई हैं।

किसी व्यक्ति को आतंकवादी घोषित करने के प्रावधान वाले गैर कानूनी गतिविधि निरोधक (संशोधन) विधेयक, 2019 पर आज संसद की मुहर लग गयी। राज्य सभा ने इसे मत विभाजन के जरिये पारित कर दिया जबकि लोकसभा ने इसे 24 जुलाई को मंजूरी दे दी थी।

राज्य सभा ने विधेयक को आज 42 के मुकाबले 147 मतों से पारित किया। इससे पहले विपक्षी सदस्यों ने इस विधेयक को व्यक्ति की स्वतंत्रता का उल्लंघन करने वाला बताते हुए इसे विस्तृत समीक्षा के लिए प्रवर समिति के पास भेजने की मांग की लेकिन सदन ने इस आशय के प्रस्ताव को 85 के मुकाबले 104 मतों से ख़ारिज कर दिया।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription