एस्टेरॉएड्स पर वैज्ञानिकों का चौंकाने वाला खुलासा

लंदन, 18 जनवरी। पिछले 29 करोड़ सालों में चांद और पृथ्वी से टकराने वाले एस्टेरॉएड्स (Asteroidids) में दो से तीन गुना व्द्धि हुई है। एक शोध (research) में इस बात का खुलासा किया गया है। युनाइटेड किंगडम के साउथम्पटन में स्थित यूनिवर्सिटी में कार्यरत अन्तर्राष्ट्रीय शोधकर्ताओं की टीम ने इस बारे में बताया कि हालांकि …
 | 

लंदन, 18 जनवरी। पिछले 29 करोड़ सालों में चांद और पृथ्वी से टकराने वाले एस्टेरॉएड्स (Asteroidids) में दो से तीन गुना व्द्धि हुई है। एक शोध (research) में इस बात का खुलासा किया गया है।

युनाइटेड किंगडम के साउथम्पटन में स्थित यूनिवर्सिटी में कार्यरत अन्तर्राष्ट्रीय शोधकर्ताओं की टीम ने इस बारे में बताया कि हालांकि इसके पीछे की वजह क्या है इस बारे में अभी भी कुछ पता नहीं चल सका है, लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि इसके पीछे मंगल और वृहस्पति ग्रह के बीच स्थित एस्टेरॉएड्स बेल्ट में 29 करोड़ साल पहले एक बहुत बड़ा संघर्ष हुआ होगा और इसी का नतीजा है एस्टेरॉएड्स की संख्या में बढ़ोतरी।

चांद की धरती (moon land) पर अध्ययन कर रहे इस टीम को इस काम में नासा के लूनर द्वारा लिए गए तस्वीरों और थर्मल डाटा से काफी मदद मिली। वैज्ञानिकों ने पाया कि चांद और पृथ्वी पर पाए जाने वाली क्रेटर्स काफी हद तक एक-दूसरे से मिलती जुलती है।

एक साइंस जर्नल में प्रकाशित शोध में इस बात का खुलासा भी किया गया कि किंबरलाइट्स पाइप्स डायमंड वॉलकैनो (Kimberlites Pipes Diamond Volcano) आज से 65 करोड़ साल पहले ही बन चुका था। चांद और धरती के बीच यह समानता टीम को इस बारे में और भी खोज के लिए सहायता कर रही है।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

<iframe width="424" height="238" src="https://www.youtube.com/embed/8TtO-JIEwIY" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription