ई-सिगरेट – याद रखने योग्य बिंदु

ई-सिगरेट – याद रखने योग्य बिंदु E-cigarettes – Points to Remember इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट बैटरी से चलने वाले उपकरण (Electronic cigarettes are battery-operated devices) हैं जिनका उपयोग लोग एक एरोसोल में करते हैं, जिसमें आमतौर पर निकोटीन (हालांकि हमेशा नहीं), फ्लेवरिंग और अन्य रसायन होते हैं। कई ई-सिगरेट में, पफिंग बैटरी से चलने वाले हीटिंग डिवाइस को …
 | 
ई-सिगरेट – याद रखने योग्य बिंदु

ई-सिगरेट – याद रखने योग्य बिंदु E-cigarettes – Points to Remember

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट बैटरी से चलने वाले उपकरण (Electronic cigarettes are battery-operated devices) हैं जिनका उपयोग लोग एक एरोसोल में करते हैं, जिसमें आमतौर पर निकोटीन (हालांकि हमेशा नहीं), फ्लेवरिंग और अन्य रसायन होते हैं। कई ई-सिगरेट में, पफिंग बैटरी से चलने वाले हीटिंग डिवाइस को सक्रिय करता है, जो कारतूस या जलाशय में तरल को वाष्पित करता है। व्यक्ति तब परिणामस्वरूप एरोसोल या वाष्प (जिसे वापिंग कहा जाता है) को साँस में लेता है।

निकोटीन अधिवृक्क ग्रंथियों को हार्मोन एपिनेफ्रीन (एड्रेनालाईन) (hormone epinephrine – adrenaline) छोड़ने के लिए उत्तेजित करता है और मस्तिष्क में एक रासायनिक दूत के स्तर को बढ़ाता है जिसे डोपामाइन कहा जाता है। निकोटीन की मस्तिष्क की इनाम प्रणाली (brain’s reward system) के साथ बातचीत के कारण खुशी कुछ लोगों को उनके स्वास्थ्य और कल्याण के लिए संभावित जोखिमों के बावजूद बार-बार निकोटीन का उपयोग करने के लिए प्रेरित करती है।

अमेरिकी स्वास्थ्य विभाग के National Institute on Drug Abuse पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक अब तक के शोध बताते हैं कि जो लोग नियमित रूप से धूम्रपान करते हैं उनके लिए ई-सिगरेट प्रतिस्थानापन्न के रूप में कम नुकसान पहुंचाती है। लेकिन ई-सिगरेट अभी भी एक व्यक्ति के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकती है।

ई-सिगरेट से निकोटीन की लत और अन्य दवाओं की लत के लिए जोखिम बढ़ सकता है।

ई-सिगरेट का उपयोग फेफड़ों को कई प्रकार के रसायनों को भी उजागर करता है, जिसमें ई-तरल पदार्थ और अन्य रसायन शामिल होते हैं जो हीटिंग / वाष्पीकरण प्रक्रिया के दौरान उत्पन्न होते हैं।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription