मोदी-शाह का हर कदम हिटलर की नकल के सिवाय और कुछ नहीं, प्रणब मुखर्जी और हिंडनबर्ग की साम्यता

मोदी-शाह का हर कदम हिटलर की नकल के सिवाय और कुछ नहीं, प्रणब मुखर्जी और हिंडनबर्ग की साम्यता अरुण माहेश्वरी हिटलर के लोग घर-घर जाकर हिटलर की आत्म-कथा और जर्मन नस्ल की श्रेष्ठता का झूठा बखान करने वाले नाजी साहित्य को बांटा करते थे। हूबहू उसी की नकल करते हुए अमित शाह ने लोगों के …
 | 

मोदी-शाह का हर कदम हिटलर की नकल के सिवाय और कुछ नहीं, प्रणब मुखर्जी और हिंडनबर्ग की साम्यता

अरुण माहेश्वरी

मोदी-शाह का हर कदम हिटलर की नकल के सिवाय और कुछ नहीं, प्रणब मुखर्जी और हिंडनबर्ग की साम्यताहिटलर के लोग घर-घर जाकर हिटलर की आत्म-कथा और जर्मन नस्ल की श्रेष्ठता का झूठा बखान करने वाले नाजी साहित्य को बांटा करते थे। हूबहू उसी की नकल करते हुए अमित शाह ने लोगों के घरों में जाकर संघ के झूठ पर टिके हिंदुत्व की श्रेष्ठता के साहित्य के वितरण का अभियान शुरू कराया है। कहना न होगा, मोदी-शाह का हर कदम हिटलर और नाजियों की कार्यनीति की नकल के सिवाय और कुछ नहीं होता है। यह तस्वीर बर्लिन वाल के सामने लगी हिटलर के आतंक की चित्र प्रदर्शनी से ली गई है।

प्रणब मुखर्जी और हिंडनबर्ग की साम्यता

मोदी-शाह का हर कदम हिटलर की नकल के सिवाय और कुछ नहीं, प्रणब मुखर्जी और हिंडनबर्ग की साम्यताबर्लिन की दीवार के सामने शैतान हिटलर के आतंक राज की कहानी की चित्र प्रदर्शनी में एक चित्र यह भी था। तत्कालीन राष्ट्रपति हिंडनबर्ग से मुलाकात के वक्त विनम्रता की भावमूर्ति दिखाई देते हिटलर का चित्र। हिंडनबर्ग को धोखा दे कर हिटलर ने जब जर्मनी पर अपना एकक्षत्र राज कायम किया, उसके बाद हिंडनबर्ग को विदा करते समय का यह चित्र। इसे देख हमारे दिमाग में प्रणब मुखर्जी के स्वागत में पलक पावड़े बिछाये हुए आरएसएस के नेताओं की विनम्रता के मिथ्याचार का चित्र कौंध गया।

हिटलर और गोयेबल्स ने सरे- बाजार होली जलाई थी महान साहित्य की किताबों की

घर-घर घूम कर नाजी प्रचार की किताबें बंटवाने वाले हिटलर और गोयेबल्स ने जर्मनी के वास्तविक महान साहित्य की किताबों की सरे- बाजार होली जलाई थी। उन्होंने नाजी प्रचार के अलावा बाकी सारी किताबों को गैर-जर्मन गंदा साहित्य कहा था जैसे आरएसएस के लोग अपने अलावा बाकी हर आदमी को हिंदू-विरोधी और जघन्य बताते हैं।

मोदी-शाह का हर कदम हिटलर की नकल के सिवाय और कुछ नहीं, प्रणब मुखर्जी और हिंडनबर्ग की साम्यतायह भी पढ़ें 

जीवन के आखिरी पड़ाव में संघ शरणागत हुए प्रणब मुखर्जी, हेडगेवार को बताया “भारत मां के सपूत”

बूढ़े पिता प्रणब मुखर्जी के नागपुर प्रणाम पर बेटी शर्मिष्ठा ने उठाए सवाल

संघ के घर में प्रणब मुखर्जी ने संघ प्रमुख सहित स्वयंसेवकों को पढ़ाया राष्‍ट्र, राष्‍ट्रवाद, देशभक्‍ति, गाँधी और नेहरू का पाठ

प्रणब दा ! क्या आरएसएस अपनी भारत विरोधी हिन्दू राष्ट्रवादी विचारधारा को त्याग सकता है?

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription