आज सुबह की बड़ी खबरें : सावरकर को भारत रत्न क्यों, गोडसे को क्यों नहीं?

कांग्रेस ने पूछा, सावरकर को भारत रत्न क्यों, गोडसे को क्यों नहीं? कांग्रेस ने गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा अपने विचारक विनायक दामोदर सावरकर को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के घोषणापत्र में भारत रत्न की मांग उठाने पर आलोचना की। कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने ट्विटर पर लिखा, “राजग/भाजपा सावरकर को भारत रत्न क्यों …
 | 
आज सुबह की बड़ी खबरें : सावरकर को भारत रत्न क्यों, गोडसे को क्यों नहीं?

कांग्रेस ने पूछा, सावरकर को भारत रत्न क्यों, गोडसे को क्यों नहीं?

कांग्रेस ने गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा अपने विचारक विनायक दामोदर सावरकर को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के घोषणापत्र में भारत रत्न की मांग उठाने पर आलोचना की।

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने ट्विटर पर लिखा,

“राजग/भाजपा सावरकर को भारत रत्न क्यों प्रदान करना चाहती हैं, गोडसे को क्यों नहीं? पूर्व पर सिर्फ आरोपपत्र दायर किया गया था और बाद में गांधी की हत्या से बरी कर दिया गया था, जबकि गोडसे को दोषी ठहराया गया और फांसी दी गई। उनकी (गांधीजी की) 150वीं वर्षगांठ पर अगर आप उनकी याद को धूमिल करना चाहते हैं तो आप जो चाहे कर सकते हैं।”

अवध किसान सभा के 100 साल पूरे

अवध किसान सभा 17, अक्टूबर 2019 को अपनी स्थापना के सौवें वर्ष में प्रवेश कर गई। यह संगठन भारत के किसान आंदोलनों से जुड़े सबसे पुराने संगठनों में एक है और इसकी स्थापना बैठक में देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू भी शामिल हो चुके थे।

ये बदला हुआ हिंदुस्तान है, डरने वाला नहीं : मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र के पुणे में  गुरुवार को एक चुनावी रैली में कहा कि “ये बदला हुआ हिंदुस्तान है, कोई आंख दिखाए तो ये डरने वाला नहीं है।” उन्होंने कहा कि अब भारत संगठित है, सामूहिकता का भाव है और समस्याओं का सही समाधान चाहता है।

विपक्षी दलों ने झारखंड चुनाव एक ही चरण में कराने की मांग रखी

झारखंड में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को छोड़कर अन्य राजनीतिक दलों ने मांग की है कि राज्य में विधानसभा चुनाव एक ही चरण में होने चाहिए।

मप्र में भाजपा उम्मीदवार की मां का भी कर्ज माफ : कृषि मंत्री

मध्य प्रदेश में किसानों की कर्ज माफी को लेकर छिड़ी बयानबाजी के बीच राज्य के कृषि मंत्री सचिन यादव ने दावा किया है कि झाबुआ विधानसभा क्षेत्र के उप-चुनाव के उम्मीदवार भानु भूरिया की मां वरदी भूरिया का एक लाख रुपये का कर्ज माफ हुआ है।

दिल्ली में हवा की गुणवत्ता बहुत खराब

राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को समग्र रूप से हवा की गुणवत्ता गिरकर बहुत खराब श्रेणी में चली गई और वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) का स्कोर 304 हो गया। ऐसा सीजन में पहली बार हुआ है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि स्थानीय प्रदूषक कण अभी तक बिखरे नहीं हैं।

उत्तराखंड में हाथियों पर मिर्ची से हमला अब नहीं

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने हाथियों को भगाने के लिए लाल मिर्ची और इससे बनाए गए बम के प्रयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है। राज्य में हाथियों के 11 गलियारों के बाहरी क्षेत्र में रहने वाले लोगों द्वारा हाथियों को भगाने के लिए और मनुष्य व उनके बीच संघर्ष को रोकने के लिए लाल मिर्च पाउडर और मिर्ची बम का प्रयोग किया जाता है। हालांकि हाईकोर्ट ने मंगलवार को इस पर प्रतिबंध लगा दिया है।

रेलिगेयर धोखाधड़ी मामला : सभी आरोपियों को न्यायिक हिरासत

दिल्ली की एक अदालत ने गुरुवार को रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर सिंह बंधुओं और तीन अन्य को रेलिगेयर धोखाधड़ी मामले में 31 अक्टूबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

सरकारी कंपनियों को बेच रही है सरकार : राहुल

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने सरकार पर सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को चहेते निजी उद्योगपतियों को बेचने का आरोप लगाते हुए कहा है कि इससे इन कंपनियों के कर्मचारियों में भय का माहौल है।

चीन में तैयार मेट्रो भारत में संचालित

चीन के सीआरआरसी ताल्यान कंपनी ने कहा है कि भारत के नागपुर मेट्रो परियोजना की पूर्व-पश्चिम लाइन औपचारिक तौर पर शुरू हो गई और इस लाइन की सभी मेट्रो चीन के सीआरआरसी ताल्यान कंपनी द्वारा निर्मित की गई हैं।

Morning headlines 18 October 2019

खबरों में – मनमोहन सिंह, भारत, मुख्तार अंसारी, नरेन्द्र मोदी, शेख हसीना, पाकिस्तान, सीमा सुरक्षा बल, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, सिंह, अनुच्छेद ३७०,

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription