दुनिया ने प्रगति की पर मनुष्यता का क्या हुआ ? याद किए गए प्रेमचंद

मुंशी प्रेमचंद की जयंती (Munshi Premchand Jubilee) पर उनको उत्तराखंड के दिनेशपुर (Dineshpur of Uttarakhand) में याद किया गया। बहुत ही बेहतरीन कार्यक्रम रहा। विचारगोष्ठी में प्रेमचंद का कथा-साहित्य (Story of Premchand) और प्रेमचंद की जनपक्षधरता (Premchand’s Janpakshadharata) पर वक्ताओं ने अपने विचार रखे। गोष्ठी को जनसत्ता के पूर्व सहसम्पादक पलाश विश्वास, क्रांतिकारी लोक अधिकार …
 | 
दुनिया ने प्रगति की पर मनुष्यता का क्या हुआ ? याद किए गए प्रेमचंद

मुंशी प्रेमचंद की जयंती (Munshi Premchand Jubilee) पर उनको उत्तराखंड के दिनेशपुर (Dineshpur of Uttarakhand) में याद किया गया। बहुत ही बेहतरीन कार्यक्रम रहा।

विचारगोष्ठी में प्रेमचंद का कथा-साहित्य (Story of Premchand) और प्रेमचंद की जनपक्षधरता (Premchand’s Janpakshadharata) पर वक्ताओं ने अपने विचार रखे।

गोष्ठी को जनसत्ता के पूर्व सहसम्पादक पलाश विश्वास, क्रांतिकारी लोक अधिकार संगठन की रविंदर कौर, रंगकर्मी मनोज रे, वीरेश कुमार सिंह, विजय सिंह, हेमा सागर बिश्वास, कवि तकी अंसारी ने सम्बोधित किया। संचालन रूपेश कुमार ने किया।

गोष्ठी के अंत में पौध वितरण किया गया व गुलमोहर गर्ल के नाम से मशहूर सुश्री तनुजा जोशी (Tanuja Joshi) का उनके पर्यावरण व सामाजिक क्षेत्र में किये गए कार्यों हेतु सम्मान भी किया गया।

Munshi Premchand Jubilee in Dineshpur of Uttarakhand

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription