योगीराज : बागी हुए योगी के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर, धरने पर बैठेंगे

धरने पर बैठेंगे सरकार से नाखुश योगी के मंत्री 100 दिन पूरे होने पर उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पूरे राज्य में अपने कामकाज का रिपोर्ट कार्ड पेश कर रहे हैं, लेकिन उनके मंत्री ही उनके कामों से खुश नहीं हैं। जीहां, योगी के एक मंत्री ने नाराज होकर बगावती रूख अख्तियार कर लिया है। …
 | 

धरने पर बैठेंगे सरकार से नाखुश योगी के मंत्री

100 दिन पूरे होने पर उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पूरे राज्य में अपने कामकाज का रिपोर्ट कार्ड पेश कर रहे हैं, लेकिन उनके मंत्री ही उनके कामों से खुश नहीं हैं।

जीहां, योगी के एक मंत्री ने नाराज होकर बगावती रूख अख्तियार कर लिया है।

पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने अपनी ही सरकार को मुश्किल में डालते हुए 4 जुलाई को धरने पर बैठने का ऐलान कर दिया है।

मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने अफसरों पर मनमानी करने का आरोप लगाया है।

उन्होंने कहा कि अगर परिवार में कुछ लोग उनकी बात नहीं सुन रहे हैं तो फिर सुनाने के लिए कुछ तो करना ही होगा।

ओमप्रकाश राजभर का कहना था कि जनता ने न्याय किए जाने और भ्रष्टाचार की परेशानी को समाप्त करने के लिए भाजपा नेतृत्व वाली सरकार चुनी है।

उन्होंने कहा कि मैं सरकार के खिलाफ नहीं बल्कि भ्रष्ट डीएम के विरूद्ध वे धरना दे रहा हूं।

मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने अपने आदेशों की अवहेलना करने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा कि जिस जनता ने हमें वोट दिया उसकी ही बात सुनी नहीं जा रही है। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ को भी परेशानी से अवगत करवाया जा चुका है इसके बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

बता दें ओम प्रकाश राजभर भाजपा की सहयोगी पार्टी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में ओम प्रकाश गाजीपुर की जहूराबाद सीट से चुनाव जीते हैं। उन्होंने बसपा के नेता को हराया है।

<iframe width="640" height="360" src="https://www.youtube.com/embed/eNfxpe8GJQ8" frameborder="0" allowfullscreen></iframe>

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription