प्रदूषण के चलते 30 प्रतिशत बढ़ गईं त्वचा की समस्याएं

प्रदूषण के चलते 30 प्रतिशत बढ़ गईं त्वचा की समस्याएं People are facing problems like allergy, itching, rashes due to air pollution in Delhi NCR नई दिल्ली, 20 नवंबर 2019. दिल्ली एनसीआर में लगातार प्रदूषण (Pollution in Delhi NCR) बढ़ने-घटने के क्रम में चिकित्सकों ने बुधवार को कहा कि देश की राजधानी में त्वचा संबंधी …
 | 
प्रदूषण के चलते 30 प्रतिशत बढ़ गईं त्वचा की समस्याएं

प्रदूषण के चलते 30 प्रतिशत बढ़ गईं त्वचा की समस्याएं

People are facing problems like allergy, itching, rashes due to air pollution in Delhi NCR

नई दिल्ली, 20 नवंबर 2019. दिल्ली एनसीआर में लगातार प्रदूषण (Pollution in Delhi NCR) बढ़ने-घटने के क्रम में चिकित्सकों ने बुधवार को कहा कि देश की राजधानी में त्वचा संबंधी समस्याओं (Skin problems due to pollution) में 30 प्रतिशत तक इजाफा हुआ है। दिल्ली-एनसीआर का जहरीला प्रदूषण न सिर्फ यहां रहने वालों के स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव डाल रहा है, बल्कि उनकी त्वचा पर भी काफी असर डाल रहा है। इससे लोगों को एलर्जी, खुजली, रैशेज जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

एम्स, नई दिल्ली में डर्मेटोलॉजी विभाग (Department of Dermatology at AIIMS, New Delhi) के अध्यक्ष, प्रोफेसर वी.के. शर्मा के अनुसार, प्रदूषण के कारण त्वचा में समय से पहले अधिक उम्र का प्रभाव, झाइयां, खुजली और त्वचा से संबंधी अन्य परेशानियां सामने आई हैं।

शर्मा ने आगे कहा,

“शोध में यह बात सामने आई है कि वायुमंडल में बढ़े पीएम 2.5 के स्तर के कारण त्वचा में जलन महसूस होती है। प्रदूषण के कारण दिल्ली में त्वचा रोगियों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है।”

नई दिल्ली में केएएस मेडिकल सेंटर और मेडस्पा के मेडिकल डायरेक्टर और डॉक्टर अजय कश्यप ने कहा, “हमारी त्वचा एक सुरक्षा कवच के तौर पर काम करती है, लेकिन प्रदूषण का मौजूदा स्तर इसकी क्षमता से कहीं अधिक है, जिसकी वजह से त्वचा से जुड़ी बीमारियां बढ़ रही हैं।”

Skin problems increased by 30 percent due to pollution

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription