फिर ‘चुआ’ पर उठे सवाल, क्या ऐसे ही होगा एक राष्ट्र एक चुनाव ?

नई दिल्ली, 22 सितंबर 2019. हरियाणा, महाराष्ट्र के साथ झारखंड में चुनाव न कराने को लेकर भारत के चुनाव आयोग (भारत निर्वाचन आयोग – Election Commission of India) की मंशा पर फिर सवाल उठे हैं। वरिष्ठ पत्रकार और प्रेस कौंसिल के सदस्य जयशंकर गुप्त ने अपनी एफबी टाइमलाइन पर लिखा – “तो क्या इसी तरह से …
 | 
फिर ‘चुआ’ पर उठे सवाल, क्या ऐसे ही होगा एक राष्ट्र एक चुनाव ?

नई दिल्ली, 22 सितंबर 2019. हरियाणा, महाराष्ट्र के साथ झारखंड में चुनाव न कराने को लेकर भारत के चुनाव आयोग (भारत निर्वाचन आयोग – Election Commission of India) की मंशा पर फिर सवाल उठे हैं।

वरिष्ठ पत्रकार और प्रेस कौंसिल के सदस्य जयशंकर गुप्त ने अपनी एफबी टाइमलाइन पर लिखा

“तो क्या इसी तरह से लागू होगा ‘वन नेशन, वन इलेक्शन’! हरियाणा, महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव 21 अक्टूबर को और झारखंड में! दिसंबर में किसी दिन। वहां जनवरी के पहले सप्ताह तक नई विधानसभा का गठन हो जाना चाहिए। चुनाव आयोग चाहे तो झारखंड में चुनाव भी हरियाणा और महाराष्ट्र के साथ ही करा सकता था!”

उन्होंने आगे लिखा कि

“यही नहीं चुआ चाहता तो महाराष्ट्र विधानसभा के चुनाव के साथ ही सातारा लोकसभा क्षेत्र का उपचुनाव भी संभव था! देश भर में लोकसभा और विधानसभा की रिक्त सीटों पर उपचुनाव 21 अक्टूबर को ही हो रहे हैं। लेकिन सातारा के लिए शुभ मुहूरत निकाला जाएगा, लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ कराने के पैरोकारों से परामर्श के बाद!”

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription