महान कवि लिखते तो गांव पर हैं और अपने गांव भी नहीं जा पाते

विष्णु नागर (vishnu nagar) जी बड़े कवि तो हैं ही, बड़े पत्रकार भी हैं। उन्हें हिंदुस्तान में काम करते हुए देखने का अनुभव अद्भुत है। ऐसे संकट काल में कवित्व से ज्यादा उनकी पत्रकारिता की जरूरत है। जन्मदिन पर विष्णु नागर को बधाई। बाकी महान कविगण बंगाल की भुखमरी (Starvation of Bengal,) के दौरान सोमनाथ …
 | 
महान कवि लिखते तो गांव पर हैं और अपने गांव भी नहीं जा पाते

विष्णु नागर (vishnu nagar) जी बड़े कवि तो हैं ही, बड़े पत्रकार भी हैं। उन्हें हिंदुस्तान में काम करते हुए देखने का अनुभव अद्भुत है। ऐसे संकट काल में कवित्व से ज्यादा उनकी पत्रकारिता की जरूरत है।

जन्मदिन पर विष्णु नागर को बधाई।

बाकी महान कविगण बंगाल की भुखमरी (Starvation of Bengal,) के दौरान सोमनाथ होड़ और चित्तोप्रसाद जैसे महान चित्रकारों की तरह थोड़ी पत्रकारिता भी कर लें तो जनता को बहुत बड़ा सहारा मिलेगा।

यह निवेदन उन कवियों के लिए नहीं है जो लिखते तो गांव पर हैं और अपने गांव भी नहीं जा पाते।

उन महान कवियों के लिए नहीं है जो कविता और साहित्य की आलोचना और पाठ के लिए संवेदना नहीं, दृष्टि नहीं, विद्वता जरूरी मानते हैं।

उन कवियों के लिए भी यह निवेदन नहीं है जो देश-विदेश में छपी कविता शेयर करते हुए कविता के सौंदर्यबोध पर अकादमिक चर्चा वर्तमान यथार्थ और आम जनता की तकलीफ से जरूरी मानते हैं।

ऐसे महान कवियों के खुरों को दूर से ही प्रणाम।

पलाश विश्वास

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription