जिन उस्मान सैफी ने बचाया मंदिर, “शाह” पुलिस ने दंगाई बता किया गिरफ्तार तो पुजारी ने रिहा करने के लिए दी अदालत में अर्ज़ी

मुस्लिम बहुल मुस्तफाबाद के भीतर नेहरू विहार की गली नम्बर 18 (Street number 18 of Nehru Vihar within Muslim majority Mustafabad) में अधिकांश मुस्लिम के बीच रहने वाले 10 हिंदू परिवारों और उनके मंदिर की रात-रात भर जग कर रक्षा करने वाले 45 वर्षीय उस्मान सैफी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इलाक़े के …
 | 
जिन उस्मान सैफी ने बचाया मंदिर, “शाह” पुलिस ने दंगाई बता किया गिरफ्तार तो पुजारी ने रिहा करने के लिए दी अदालत में अर्ज़ी

मुस्लिम बहुल मुस्तफाबाद के भीतर नेहरू विहार की गली नम्बर 18 (Street number 18 of Nehru Vihar within Muslim majority Mustafabad) में अधिकांश मुस्लिम के बीच रहने वाले 10 हिंदू परिवारों और उनके मंदिर की रात-रात भर जग कर रक्षा करने वाले 45 वर्षीय उस्मान सैफी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इलाक़े के हिंदू परिवारों और मंदिर के पुजारी ने उनको रिहा करने के लिए कड़कड़डूमा कोर्ट में अर्ज़ी दी है।

श्रीराम मंदिर समिति के पुजारी और अन्य सदस्यों ने कड़कड़डूमा के मजिस्ट्रेट को एक पत्र लिख कर बताया है कि किस तरह उस्मान सैफी दंगे के दौरान दिन रात वहीं थे, ताकि कोई बाहरी लोग मन्दिर या हिन्दू परिवार को नुकसान न पहुंचा पाएं।

दयालपुर थाने की पुलिस ने फेस आइडेंटिफिकेशन सॉफ्टवेयर (Face Identification Software) के आधार पर उस्मान सैफी पर दंगे का मुकदमा दर्ज (Case filed on Usman Saifi for riots) कर छह दिन पहले उन्हें गिरफ्तार किया था।

पंकज चतुर्वेदी

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription