हिन्दुओं का जनशत्रु है मोदी, आरएसएस भारत का विध्वंसक है

Modi is the demon of Hindus, RSS is the destroyer of India. मुसलमानों को हिन्दुओं का शुत्र बताकर बहुमत हासिल करने वाले मोदी असल में हिन्दुओं के तारणहार नहीं जनशत्रु हैं. मनमोहन सिंह काल में आई वैश्विक आर्थिक मंदी (Global economic downturn) ने जब दुनिया की आर्थिक महासत्ताओं की कमर थोड़ दी तब मनमोहन ने …
 | 
हिन्दुओं का जनशत्रु है मोदी, आरएसएस भारत का विध्वंसक है

Modi is the demon of Hindus, RSS is the destroyer of India.

मुसलमानों को हिन्दुओं का शुत्र बताकर बहुमत हासिल करने वाले मोदी असल में हिन्दुओं के तारणहार नहीं जनशत्रु हैं. मनमोहन सिंह काल में आई वैश्विक आर्थिक मंदी (Global economic downturn) ने जब दुनिया की आर्थिक महासत्ताओं की कमर थोड़ दी तब मनमोहन ने भारत को दिवालिया होने से तो बचा लिया पर अपनी सत्ता नहीं बचा पाए.

वैश्विक आर्थिक मंदी से भारत के मध्यमवर्ग के मुनाफ़े को गहरा झटका लगा. बेरोज़गारी बढ़ी और मध्यमवर्ग की लालच चरम पर पहुँच गई. जिस देश ने सिर्फ़ कंगाली देखी थी उसने मनमोहन काल में जमकर घी पीया. पर ये दिल मांगे मोर की मध्यमवर्गीय तृष्णा को मनमोहन शांत नहीं कर पाए और विकास के जुमले का शिकार हो गए.

और आरएसएस का षड़यंत्र कामयाब हुआ | And the conspiracy of the RSS was successful

देश में मनमोहन काल को भ्रष्टाचार का सबसे काला अध्याय साबित करने के लिए आरएसएस ने भारत की ख़ुफ़िया एजेंसी के पूर्व अधिकारी को षड्यंत्र की बागडोर सौंपी. आरएसएस ने संवैधानिक संस्थाओं में सेंध लगाई और कैग के ज़रिये मनमोहन सरकार पर कालिख पोत दी. मुनाफ़ाखोर मीडिया ने नकली गांधी खड़ा किया. जन्मजात कांग्रेसी विरोध में जलते भुनते भारत के बुद्धिजीवी, जनहित में लगे सामाजिक कार्यकर्ता, नामी गिरामी वकील आरएसएस प्रायोजित तथाकथित भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन की बलि चढ़ गए. मनमोहन सरकार की छवि मलिन हो गई. आरएसएस का षड्यंत्र कामयाब हुआ.

आरएसएस ने मध्यमवर्ग की लालसा को विकास का जुमला देकर साध लिया. मोदी को विकास पुरुष का अवतार सिद्ध कर मुनाफ़ाखोर मीडिया के बल पर गुजरात को विकास का मॉडल साबित कर दिया. मुंबई में हुए 26 /11 के आतंकवादी हमले ने आग़ में घी का काम किया. पाकिस्तान का तड़का लगा मोदी भारतीय मानस को हिन्दू – मुसलमान में विभाजित करने में कामयाब हो गया. गर्व से हिन्दू बनी भेड़ों ने पहली बार देश में आरएसएस की बहुमत वाली हिन्दू सरकार बनाई!

आम हिन्दू को बर्बाद करने की साज़िश थी नोटबंदी | Demonetisation was a conspiracy to ruin the common Hindu

आरएसएस सरकार ने नोटबन्दी करके हिन्दू मज़दूरों, ग़रीब मुसलमानों,छोटे लघु और कुटीर उद्योग की कमर तोड़ दी. भारतीय अर्थव्यवस्था को कालाधन समाप्त करने के नाम पर बर्बाद कर दिया. नोटबंदी आम हिन्दू को बर्बाद करने की साज़िश थी. इस विद्रोह को शांत करने के लिए मोदी ने राष्ट्रवाद का तड़का लगाया और सैनिकों की शहादत पर दोबारा बहुमत हासिल किया. देश विदेश में भारतीय मूल के लोगों को अपनी चुनावी आग में झोंक दिया. शिगूफ़ा छोड़ा भारत के पासपोर्ट का आज दुनिया सम्मान कर रही है. पर ठीक उसके उलटे ट्रम्प ने हज़ारों भारतीयों के वर्किंग वीजा रद्द कर दिए. पर भेडें मंगल गीत गाती रहीं.

न्यायपालिका को रौंद कर भारत की पंथ निरपेक्षता को भगवा रंग दिया. राम मन्दिर निर्माण का ऐलान कर भूख्रे,बेरोज़गार हिन्दुओं के आक्रोश को दबाया. भेड़ों ने नारा लगाया ‘आयेगा तो मोदी ही’ ! व्यक्तिगत आस्था को राष्ट्र की अस्मिता बनाने का दुष्कर्म कर आरएसएस ने ‘भारत एक विचार’ की जड़ों को खोद डाला. अहंकार में डूबी सरकार व्यक्तिवाद का शिकार हो गई. पूरा प्रशासन चरमरा गया. कोरोना में हाहाकार हो गया. चारों ओर मौत ही मौत, श्मशान कम पड़ रहे हैं, कब्रिस्तान लाशों से पट गए हैं. एक एक सांस के लिए जनता मारी मारी फिर रही है और विकारी मोदी सरकार ना अस्पताल में बेड का, ना दवा का और ना ही ऑक्सीजन दे पा रही है.

हिन्दुओं के दिल में मुसलमानों के खिलाफ़ नफ़रत की आग़ लगा कर मोदी को सत्ता तो मिल गई. पर वो आग़ हिन्दुओं की चिता बन गई. उसी आग़ की चिता में हिन्दू जल रहे हैं. हिन्दू और मुसलमान दोनों मर रहे हैं. विदेशों में भारत की थू थू हो रही है.

आरएसएस भारत का विध्वंसक है | RSS is the destroyer of India.

प्रेम, विविधता और सहिष्णुता भारत की संस्कृति और दुनिया में पहचान है. विकारी संघ ने उसी संस्कृति को मारने के लिए जनमानस में एकाधिकार वाद, हिन्दू बहुलतावाद और श्रेष्ठतावाद का विष भरा है. विदेशी अखबार देश की दुर्गति और मोदी के कुकर्मों से भरे पड़े हैं.

दुनिया ने मान लिया है ‘भारत की जनता नहीं सांस्कृतिक विरासत’ मर गई हैं। मरी हुई संस्कृति के सिंहासन पर बैठा है विकारी शासक ! हिन्दुओं के जनशत्रु मोदी और भारत के विध्वंसक आर एसएस का कारनामा दुनिया जान गई है! भेड़ों यह भारतीय पासपोर्ट का सम्मान नहीं देहावसान है!

– मंजुल भारद्वाज

हिन्दुओं का जनशत्रु है मोदी, आरएसएस भारत का विध्वंसक है

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription