दुनिया की कोई ताक़त करोड़ों किसानों के सामने टिक नहीं सकती : जस्टिस काटजू

जस्टिस मार्कंडेय काटजू जब करोड़ों किसानों का विशाल समूह एक तूफ़ान या सुनामी जैसे उठ खड़ा होगा तो वह ऐसी भयंकर शक्ति होगी कि दुनिया की कोई ताक़त उसके सामने टिक नहीं सकती When hundreds of millions of peasants rise like a typhoon or tornado, it will be a force so powerful, and so swift, …
 | 
दुनिया की कोई ताक़त करोड़ों किसानों के सामने टिक नहीं सकती : जस्टिस काटजू

जस्टिस मार्कंडेय काटजू

जब करोड़ों किसानों का विशाल समूह एक तूफ़ान या सुनामी जैसे उठ खड़ा होगा तो वह ऐसी भयंकर शक्ति होगी कि दुनिया की कोई ताक़त उसके सामने टिक नहीं सकती

When hundreds of millions of peasants rise like a typhoon or tornado, it will be a force so powerful, and so swift, that no power on earth can resist it.

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription