हम भारत के नागरिक हैं और कोई हमें नागरिकता नहीं दे सकता – पलाश विश्वास

We are citizens of India and no one can give us citizenship सीएए से नागरिकता मिल भी गई तो एनपीआर, एनआरसी से नागरिकता बचेगी नहीं। हम भारत के नागरिक हैं और कोई हमें नागरिकता नहीं दे सकता। सीएए हिंदुओं को नागरिकता देने का नहीं, आम जनता को नागरिकता साबित करने की बाध्यता और नागरिकता छीनने …
 | 
हम भारत के नागरिक हैं और कोई हमें नागरिकता नहीं दे सकता – पलाश विश्वास

We are citizens of India and no one can give us citizenship

सीएए से नागरिकता मिल भी गई तो एनपीआर, एनआरसी से नागरिकता बचेगी नहीं। हम भारत के नागरिक हैं और कोई हमें नागरिकता नहीं दे सकता। सीएए हिंदुओं को नागरिकता देने का नहीं, आम जनता को नागरिकता साबित करने की बाध्यता और नागरिकता छीनने का कानून है।

2003 के भाजपाई कानून ने नागरिकता छीनने का इंतज़ाम किया, उसका भी लगातार पुरजोर विरोध करता रहा हूँ,  और सीएए, एनआरसी और एनपीआर के नागरिकता छीनने के उपकरण का भी पुरजोर विरोध करता हूँ। धर्म, भाषा, जाति, नस्ल या क्षेत्र नहीं में मनुष्यों के, मनुष्यता के, सभ्यता के पक्ष में खड़ा हूँ।

किसी भी तरह के दमन, उत्पीड़न, गैर बराबरी और अन्याय के खिलाफ खड़ा हूँ, अकेले ही सही।

चाहे मेरे अपने दुश्मन हो जाएं।

मुझे कहीं से चुनाव जीतना नहीं है।

कैरियर की कभी परवाह नहीं की, फायदा नुकसान के बारे में कभी सोचा नहीं।

हमेशा सच के साथ खड़ा रहा हूँ।

हमेशा साथियों का बचाव ही किया है। हर गलती की जिम्मेदारी खुद ली है, अंधा नहीं हूं।

50 साल से मीडिया में हूँ।

दुनिया मेरी हथेली में है तो मेरे अपने।

क्या अंधेरगरदी करते हैं, कैसे मुझे चूना लगाते हैं, सब जानता हूँ।

नुकसान सहकर मरते खपते हुए हमेशा रिश्ते बचाने की कोशिश करता हूँ।

लेकिन सिर्फ रिश्तों के खातिर सच के खिलाफ नहीं जा सकता।

मैं किसी पार्टी में नहीं हूँ।

अकेला हूँ।

लेकिन सच के लिए दुनिया से लड़ सकता हूँ।

सत्ता की चापलूसी करना मुझे नहीं आता।

नवधनाढ्यों से निवेदन है कि करोड़पति अरबपति मैंने भी खूब बनते बिगड़ते देखा है और वे मेरी आवाज़ कभी नहीं दबा सके, देखना है कातिल के बाजू में, कितना है।

पलाश विश्वास

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription