अंबेडकर से लेकर लोहिया : क्यों मार्क्सवादी दृष्टिकोण के विरोधी हो गए ?

अंबेडकर से लेकर लोहिया तक जाति और वर्ग की प्रतीकात्मक धारणाओं के पीछे के ऐतिहासिक कारणों को आत्मसात् करने में विफल रहने के कारण मार्क्सवादी दृष्टिकोण के विरोधी हो गए वर्ग और जाति —अरुण माहेश्वरी वीरेन्द्र यादव की फेसबुक वॉल पर जाति और वर्ग के बारे में डॉ. लोहिया के विचार के एक उद्धरण* के …
 | 
अंबेडकर से लेकर लोहिया : क्यों मार्क्सवादी दृष्टिकोण के विरोधी हो गए ?

अंबेडकर से लेकर लोहिया तक जाति और वर्ग की प्रतीकात्मक धारणाओं के पीछे के ऐतिहासिक कारणों को आत्मसात् करने में विफल रहने के कारण मार्क्सवादी दृष्टिकोण के विरोधी हो गए

वर्ग और जाति

अरुण माहेश्वरी

वीरेन्द्र यादव की फेसबुक वॉल पर जाति और वर्ग के बारे में डॉ. लोहिया के विचार के एक उद्धरण* के संदर्भ में :

जाति हो या वर्ग, दोनों ही सामाजिक संरचना की प्रतीकात्मक श्रेणियाँ (Symbolic categories) हैं। भले कभी इनके जन्म के पीछे समाज के ठोस आर्थिक विभाजन के कारण होते हों, जैसे जातियों के जन्म के पीछे समाज की चतुर्वर्णीय व्यवस्था या वर्ग विभाजन के पीछे पूँजीवादी व्यवस्था, मालिक और मज़दूर, पर जब भी किसी यथार्थ श्रेणी का प्रतीकात्मक रूपांतरण हो जाता है तब वह श्रेणी आर्थिक संरचना के यथार्थ को ज़रा सा भी व्यक्त नहीं करती है। उसके साथ आचार-विचार का एक अन्य प्रतीकात्मक जगत जुड़ जाता है। वह आर्थिक यथार्थ के बजाय अन्य प्रतीकात्मक सांस्कृतिक अर्थों को व्यक्त करने लगती है। वह एक नए मूल्यबोध का वाहक बन जाती है। जातिवादी और वर्गीय चेतना के बीच के फ़र्क़ को समझने के लिए इस बात को, वस्तु के प्रतीकात्मक रूपांतरण के साथ ही उसके मूल स्वरूप के अंत की परिघटना को समझना ज़रूरी है। यह माल के उपयोग मूल्य और विनिमय मूल्य की तरह का विषय ही है। जब मार्क्सवाद में वर्गीय चेतना की बात की जाती है तो उसका तात्पर्य हमेशा एक उन्नत सर्वहारा दृष्टिकोण से होता है, उस दृष्टिकोण से जो सभ्यता के विकास में पूंजीवाद की बाधाओं को दूर करने में समर्थ दृष्टिकोण है। पर किसी भी प्रकार की जातिवादी चेतना से ऐसी कोई उन्नत विश्वदृष्टि अभिहित नहीं होती है।

डॉ. राम मनोहर लोहिया में किसी दार्शनिक दृष्टि का अभाव

डॉ. लोहिया के पास ऐसी किसी दार्शनिक दृष्टि का अभाव और उनका विषय को एक समाज-सुधारवादी सीमित उद्देश्य के नज़रिये से देखने का अभ्यास होने के कारण वे मार्क्सवादी वर्गीय दृष्टि के मर्म को कभी नहीं समझ पाए और जातिवादी नज़रिये को उसके समकक्ष समझ कर जाति को भारत की विशेषता को व्यक्त करने वाली श्रेणी बताते रहे। जबकि दुनिया के इतिहास को यदि देखा जाए तो रोमन साम्राज्य के शासन का हमेशा यह एक मूलभूत सिद्धांत रहा है कि समाज को चार भागों में, राजा के अलावा श्रेष्ठी या कुलीन (Patricians), सर्वसाधारण (Plebeians) और गुलाम (Slaves) में बाँट कर चलना। इनका भारतीय तर्जुमा क्षत्रिय, ब्राह्मण, वैश्य और शूद्र में बिल्कुल सटीक किया जा सकता है।

यूरोप में रैनेसांस के बाद पूंजीवाद के उदय से मालिक-मज़दूर के नए संबंधों के जन्म ने समाज में इस पुराने श्रेणी विभाजन को अचल कर दिया। यूरोप की तुलना में भारत में पूँजीवाद के विलंबित विकास ने पुराने जातिवादी विभाजन के अंत को भी विलंबित किया और इसमें जो एक नया और बेहद दिलचस्प पहलू यह जुड़ गया कि भारत के सामाजिक आंदोलनों की बदौलत जातिवादी विभाजन प्रतीकात्मक रूप भी लेता चला गया। इसके आर्थिक श्रेणी के बजाय अन्य प्रतीकात्मक-सांस्कृतिक अर्थ ज़्यादा महत्वपूर्ण होते चले गए। इसमें अंग्रेज शासकों के शासन के सिद्धांतों पर रोमन साम्राज्य के शासकीय सिद्धांतों की भी एक प्रच्छन्न किंतु महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

अंबेडकर से लेकर लोहिया तक की तरह के व्यक्तित्व किसी न किसी रूप में इसी विलंबित पूंजीवाद से बने ख़ास प्रतीकात्मक जगत की निर्मिति कहे जा सकते हैं। वे जाति और वर्ग की प्रतीकात्मक धारणाओं के पीछे के ऐतिहासिक कारणों को आत्मसात् करने में विफल रहने के कारण अनायास ही वर्ग संबंधी मार्क्सवादी दृष्टिकोण के विरोधी हो गए और आज भी इनके अनुयायी उन्हीं बातों को दोहराते रहते हैं।

* बौद्धिक वर्ग और जाति

डॉ राममनोहर लोहिया ने कहा था —-

“हिन्दुस्तान का बौद्धिक वर्ग ,जो ज्यादातर ऊंची जाति का है. भाषा या जाति या विचार की बुनियादों के बारे में आमूल परिवर्तन करने वाली मानसिक क्रांति की सभी बातों से घबराता है. वह सामान्य तौर पर और सिद्धांत के रूप में ही जाति के विरुद्ध बोलता है. वास्तव में, वह जाति की सैद्धांतिक निंदा में सबसे ज्यादा बढचढ कर बोलेगा पर तभी तक जब तक उसे उतना ही बढ़ चढ़ कर योग्यता और समान अवसर की बात करने दी जाये. इस निर्विवाद योग्यता को बनाने में ५ हज़ार बरस लगे हैं. कम से कम कुछ दशकों तक नीची जातियों को विशेष अवसर देकर समान अवसर के नए सिद्धांत द्वारा 5 हज़ार बरस की इस कारस्तानी को ख़तम करना होगा ……कार्ल मार्क्स ने वर्ग को नाश करने का प्रयत्न किया. जाति में परिवर्तित हो जाने की उसकी क्षमता से वे अनभिज्ञ थे. इस मार्ग को अपनाने पर पहली बार वर्ग और जाति को एक साथ नाश करने का एक तजुर्बा होगा.”—–डॉ.राममनोहर लोहिया

अंबेडकर से लेकर लोहिया : क्यों मार्क्सवादी दृष्टिकोण के विरोधी हो गए ?
Arun Maheshwari – अरुण माहेश्वरी, लेखक सुप्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक, सामाजिक-आर्थिक विषयों के टिप्पणीकार एवं पत्रकार हैं। छात्र जीवन से ही मार्क्सवादी राजनीति और साहित्य-आन्दोलन से जुड़ाव और सी.पी.आई.(एम.) के मुखपत्र ‘स्वाधीनता’ से सम्बद्ध। साहित्यिक पत्रिका ‘कलम’ का सम्पादन। जनवादी लेखक संघ के केन्द्रीय सचिव एवं पश्चिम बंगाल के राज्य सचिव। वह हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

Why did Ambedkar to Lohia turn against the Marxist approach?

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription